एक नए स्टडी से पता चला है कि बादाम, सोया, दाल, फलियां सहित पादप (प्लांट बेस्ड) आधारित भोजन और पादप स्टेरोल्स की थोड़ी मात्रा लेने से ब्लड प्रेशर, ट्राइग्लिसराइड्स और सूजन (इनफलेमेशन) समेत दिल संबंधी बीमारी के कई जोखिम कम हो सकते हैं. स्टडी करने वाले साइंटिस्ट्स के अनुसार, पादप आधारित आहार पैटर्न को पोर्टफोलियो डाइट के रूप में जाना जाता है और यह 2,000 कैलोरी आहार पर आधारित होता है. Also Read - Almonds Benefits and Side Effect: बादाम खाने से होते हैं कई सारे फायदे, लेकिन इन लोगों को रहना चाहिए दूर

571026-plant-based-diet Also Read - अपनी डाइट में शामिल करें ये 10 चीजें, बिना जिम जाए कम हो जाएगा वजन

पादप आधारित भोजन को कम संतृप्त वसा वाले आहार के साथ सेवन करने से कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन कोलेस्ट्रॉल(बेड कोलेस्ट्रोल) में 30 प्रतिशत की कमी आती है. इसके अलावा अध्ययनकर्ताओं ने पाया कि इस आहार के सेवन से हृदयाघात समेत हृदय रोग के संपूर्ण खतरे में 13 प्रतिशत तक की कमी आती है. कनाडा में टोरंटो विश्वविद्यालय के एसोसिएट प्रोफेसर और को-राइटर जॉन सिवेनपाइपर ने कहा, “हम जानते हैं कि पोर्टफोलियो डाइट से एलडीएल कोलेस्ट्रोल में कमी आती है, लेकिन हमारे पास इसकी स्पष्ट तस्वीर उपलब्ध नहीं थी कि यह और क्या कर सकता है.” Also Read - इवनिंग स्नैक्स में शामिल करें ये 10 चीजें, झट से कम होगा वजन

659807-salad2

सिवनेपाइपर ने कहा, “यह अध्ययन आहार के प्रभाव और इसके स्वास्थ्य क्षमताओं के बारे में ज्यादा स्पष्ट और प्रमाणिकता के साथ बताता है.” हृदय संबंधी बीमारियों पर छपी पत्रिका में अध्ययनकर्ताओं ने एक विश्लेषण किया, जिसमें 400 रोगियों के साथ सात नियंत्रित परीक्षण किया गया. उन्होंने पाया कि ब्लड प्रेशर के खतरे में दो प्रतिशत और सूजन(इन्फ्लेमेशन) के खतरे में 32 प्रतिशत की कमी पाई गई.

अध्ययनकर्ताओं ने कहा कि आहार और जीवनशैली में बदलाव करके रोगी हाई कोलेस्ट्राल और हृदय संबंधी रोग के खतरे को कम कर सकता है और मौजूदा अध्ययन इस दिशा में और तर्क प्रदान करता है.