होली का त्योहार अपने आप में बहुत ख़ास है. इस दिन रंगों की गुलकारियों से ज़मीन से लेकर आसमान तक सराबोर हो जाता है. आपसी रंजिशों को मिटाकर ख़ुशियों के सौगात वाला ये पर्व एक आवामी पर्व है जिसे सब लोग बड़े प्यार और ख़ुलूस से मनाते हैं. जब ऐसे ख़ुशी के मौक़े आते हैं तो यक़ीनन हम अपने चाहने वालों को बड़े ख़ूबसूरत अंदाज़ में इसकी मुबारक़बाद पेश करते हैं. शायरी भी अपने अंदर कई रंगों को समेटता है और आज हम उन्हीं अलग अलग रंगों से लैस कुछ चुनिंदा शायरी पेश कर रहे हैं जिन्हें आप किसी ख़ास तक पहुंचा सकते हैं. Also Read - Shayari in Hindi 2020: कुछ तो तन्हाई की रातों में सहारा होता... पढ़िए 'तन्हाई' पर 10 चुनिंदा शायरी 

यहां पढ़िए होली पर कुछ मशहूर और चुनिंदा शायरी :

1.मुँह पर नक़ाब-ए-ज़र्द हर इक ज़ुल्फ़ पर गुलाल
होली की शाम ही तो सहर है बसंत की
लाला माधव राम जौहर Also Read - होली: दिन भर 'बाली उमर' वाली मस्ती में डूबे रहे बच्चे, भगवंत अनमोल बोले- बचपन कभी नहीं बदल सकता

2.अब की होली में रहा बे-कार रंग
और ही लाया फ़िराक़-ए-यार रंग
इमाम बख़्श नासिख़ Also Read - Happy Holi 2020 Wishes In Hindi: होली पर हिंदी में भेजें ये शुभकामना संदेश, दें रंगपर्व की बधाई

3.सजनी की आँखों में छुप कर जब झाँका
बिन होली खेले ही साजन भीग गया
मुसव्विर सब्ज़वारी

4.मौसम-ए-होली है दिन आए हैं रंग और राग के
हम से तुम कुछ माँगने आओ बहाने फाग के
मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी

5.बादल आए हैं घिर गुलाल के लाल
कुछ किसी का नहीं किसी को ख़याल
रंगीन सआदत यार ख़ाँ

होली शायरी- Holi Shayari in Hindi

6.पूरा करेंगे होली में क्या वादा-ए-विसाल
जिन को अभी बसंत की ऐ दिल ख़बर नहीं
कल्ब-ए-हुसैन नादिर

7.लब-ए-दरिया पे देख आ कर तमाशा आज होली का
भँवर काले के दफ़ बाजे है मौज ऐ यार पानी में
शाह नसीर

8.रात-भर लोग जलाते रहे होली के अलाव
सुब्ह को मिल के चले रंग उड़ाने के लिए
फूँक लूँ रंज-ओ-अलम के ख़स-ओ-ख़ाशाक तो फिर
मैं भी निकलूँगा ये त्यौहार मनाने के लिए
अख़तर बस्तवी

9.कहीं अबीर की ख़ुश्बू कहीं गुलाल का रंग
कहीं पे शर्म से सिमटे हुए जमाल का रंग
चले भी आओ भुला कर सभी गिले-शिकवे
बरसना चाहिए होली के दिन विसाल का रंग
अज़हर इक़बाल

10.गले मुझ को लगा लो ऐ मिरे दिलदार होली में
बुझे दिल की लगी भी तो ऐ मेरे यार होली में
भारतेंदु हरिश्चंद्र