बड़े होते बच्‍चों को सिगरेट, शराब से दूर रखना एक बड़ी चुनौती है. अक्‍सर पेरेंट्स को समझ नहीं आता कि वे ऐसा क्‍या करें, क्‍या समझाएं कि बच्‍चा कभी इन आदतों में ना पड़े.

ततैया के जहर से बनाई गई एंटीबायोटिक दवा, इस बीमारी में दिखाएगी असर…

अगर आप भी इस तरह की चुनौती का सामना कर रहे हैं तो आपकी परेशानी कम करने को एक शोध रिपोर्ट आई है. इस रिपोर्ट में बताया गया है कि किस तरह के चित्र बच्‍चों को दिखाने से वे हमेशा धूम्रपान से दूर रहते हैं.

Smoking

शोध की रिपोर्ट को पत्रिका ‘हेल्थ एजुकेशन रिसर्च’ में प्रकाशित किया गया है. इसमें लिखा गया है कि सिगरेट के विज्ञापनों पर कैंसर ग्रस्त मसूढ़ों और होंठ से खून निकलने जैसी तस्वीरों वाली ग्राफिक चेतावनी, बच्चों को धूम्रपान से दूर रखने में अहम भूमिका निभाती है.

खुशखबरी: अब Blood Test से होगी अल्जाइमर की जांच, ऐसी होगी नई तकनीक…

अध्ययन के अनुसार, इस तरह की चेतावनी बच्चों के अंदर से धूम्रपान को अच्छा और आनंदकारी मानने वाली भावना को खत्म करती है. अमेरिका के कॉर्नेल विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफेसर जेफ नीदेरदेप्पे ने कहा, ‘इस अध्ययन में यह बात सामने आई कि ग्राफिक चेतावनी की तस्वीरों का महत्व धूम्रपान को लेकर लोगों में नकारात्मक भावनाएं पैदा करने से कहीं ज्यादा है’.

उन्होंने कहा कि यह बात भी सामने आई कि युवाओं को पहली बार धूम्रपान के लिए लुभाने वाले विज्ञापनों के प्रभाव को कम करने में भी इन चेतावनियों की भूमिका हो सकती है.

अध्ययनकर्ताओं ने गांव और शहर के कम आय वर्ग वाले समुदायों में धूम्रपान करने वाले 451 वयस्कों और स्कूल जाने वाले 474 लड़कों पर ग्राफिक चेतावनी तस्वीरों पर अध्ययन किया था.
(एजेंसी से इनपुट)

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.