पिछले कुछ समय में युवा दंपत्तियों में I-pill की खरीदारी और इसके सेवन का चलन तेजी से बढ़ा है. एक आम धारणा है कि असुरक्षित यौन संबंध के बाद I-pill के सेवन से गर्भ नहीं ठहरता. एक गोली के सेवन से सब ठीक हो जाता है. Also Read - Women's Health Tips: अनवांटेड प्रेग्नेंसी रोकने के लिए गर्भ निरोधक गोलियों का करती हैं सेवन तो पहले जान लें ये सभी बातें

Also Read - महिलाओं को घुटने की गंभीर चोटों से बचा सकती हैं गर्भनिरोधक गोलियां, रिसर्च का दावा

Tips: नहाते हुए हर किसी को जरूर साफ करने चाहिए ये 6 Body Parts Also Read - गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल करने वाली महिलाओं में हो सकता है ये खतरा, जानें क्‍या कहती है रिपोर्ट

पर क्‍या ये एक गोली हेल्‍थ पर कोई नेगेटिव असर नहीं डालती? क्‍या आप जानते हैं कि इस गोली के सेवन के बाद आपके शरीर में क्‍या होता है?

सबसे पहले तो ये जानें कि I-pill को इमरजेंसी कॉन्‍ट्रासेप्टिव पिल्‍स कहा जाता है. पर इसका ये मतलब नहीं है कि इसे गर्भनिरोधक गोली की तरह खाया जाए. यानी महीने में कई बार इसका सेवन उचित नहीं माना जाता.

ek_uterine-contractions

I-pill है क्‍या

आजकल मेडिकल दुकानों पर आसानी से उपलब्‍ध होती है. इसे बिना डॉक्‍टर की पर्ची के भी खरीदा जा सकता है. असुरक्षित यौन संबंध के 12 या 24 घंटों के भीतर इसके सेवन की सलाह दी जाती है. कुछ ब्रांड ऐसी I-pill भी बेचते हैं जिसे 72 घंटों के अंदर सेवन करके अवांछित गर्भ से बच सकते हैं.

Tips: ये हैं वो आदतें, जो शादीशुदा जिंदगी को बर्बाद कर देती हैं…

खाने के बाद क्‍या होता है?

महिलाएं इसका सेवन करती हैं तो ये कई तरीकों से असर दिखाती है. कुछ में इसके लक्षण उभरते नहीं और वे सामान्‍य महसूस करती हैं. पर कई महिलाओं को इसके सेवन के कुछ घंटे बाद उल्‍टी, जी मिचलाने जैसी समस्‍याएं हो सकती हैं. कई को ब्‍लीडिंग स्‍पॉट्स भी दिखते हैं. इस तरह की चेतावनी इस I-pill के पैकेट या अंदर दिए गए गाइडेंस पर भी दी गई होती है. इसलिए ये समझना आवश्‍यक है कि ये सामान्‍य गर्भनिरोधक गोली नहीं है. इसे केवल इमरजेंसी में ही प्रयोग करना चाहिए.

क्या इससे अबॉर्शन होता है?

इसका जवाब है नहीं. ये अबॉर्शन की दवा नहीं है. ये केवल गर्भ ठहरने से रोकती है. लेकिन एक बार गर्भ ठहर जाए तो ये दवा बेअसर साबित होती है. इसलिए इसका सेवन ओवुलेशन से पहले करने को कहा जाता है. इस गोली के प्रभाव से स्पर्म का अंडाशय में पहुंचना मुश्किल हो जाता है.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.