नई दिल्‍ली: ब्र‍िटिश एयरवेज द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण की रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि भारतीय कर्मचारी छुट्टी लेने में संकोच करते हैं. हर दिन 8 से 10 घंटे कंपनी को देने वाले कर्मचारी जब भी छुट्टी की बात आती है तो खुद को रोक लेते हैं. सर्वे रिपोर्ट के अनुसार ऑफिस के वर्क प्रेशर और बदलती प्राथमिकताओं के कारण वह छुट्टी वाले दिन भी खुद को ऑफिस के काम से दूर नहीं रख पाते. Also Read - Yes Bank के संस्थापक राणा कपूर की बेटी रोशनी को मुंबई एयरपोर्ट पर रोका, लंदन जाने की फिराक में थीं

सर्वे की रिपोर्ट में यह खुलासा किया गया है कि औसत भारतीय कर्मचारियों को साल में 17 दिनों की पेड छुट्टी मिलती है. इसके बावजूद 42 फीसदी कर्मी काम के बोझ के कारण छुट्टी नहीं ले पाते. वहीं 26 फीसदी ऑफिशिल काम से खुद को कभी फ्री ही नहीं कर पाते. जबकि 30 फीसदी लोग डर के कारण बॉस से अपनी छुट्टी की बात नहीं कर पाते. ब्रिटिश एयरवेज की रिपोर्ट का दावा है कि भारत में ज्‍यादा छुट्टी लेने को नौकरी की स्‍थ‍िरता से जोड़कर देखा जाता है, इसलिए कर्मचारी इस डर से छुट्टी नहीं ले पाते कि कहीं उनकी नौकरी तो इससे प्रभावित नहीं होगी. Also Read - हवाई यात्रा के दौरान दूसरी बार खोया सोनम कपूर का सामान, एयरलाइन पर ट्वीट कर निकाली भड़ास

यह पाया गया कि 65 फीसदी युवा कर्मचारी अपनी छुट्ट‍ियों के एवज में मिलने वाले एलाउंस को भी साल के आखिर में क्‍लेम करने से चूक जाते हैं. दरअसल इनमें से 55% युवा कर्मी वर्क प्रेशन के कारण एलाउंस क्‍लेम ही नहीं कर पाते. Also Read - एयरहोस्टेस ने 'मजे' करने के लिए फ्लाइट में बुलाया था ब्वॉयफ्रेंड, फिर पायलट से हुआ झगड़ा और हो गई सस्पेंड

इस सर्वेक्षण को 20 दिसंबर 2017 से 4 जनवरी 2018 के बीच किया गया. इसमें भारत के 2000 कर्मचारियों को शामिल किया गया. सर्वेक्षण के दौरान छुट्ट‍ियों पर चल रहे 97 फीसदी कर्मचारियों में 49 फीसदी घर पर ही अपना समय बिता रहे थे. जबकि 34 फीसदी काम में लगे हुए और 27 प्रतिशत प्रशासनिक जिम्मेदारियां को पूरा करने में लगे थे.