Infertility In Men: भारतीय पुरुषों में नपुंसकता बढ़ रही है. इसकी वजह एक ऐसी आदत है, जो आजकल ज्यादातर पुरुषों में देखी जा रही है, इसलिए इसे तत्काल छोड़ने की आवश्यकता है. ये तथ्य एक हालिया शोध में सामने आए हैं.Also Read - आर्टिफिशियल स्वीटनर बन सकता है कैंसर जैसी घातक बीमारी का कारण, जानें क्या कहती है स्टडी

शोध के नतीजों में कहा गया है कि आपका पार्टनर अगर रात के समय स्मार्टफोन या टैबलेट का प्रयोग करता है तो उसे ऐसा करने से रोकें. इससे न केवल उसका ‘मूड’ खराब होता है बल्कि इससे उसके स्पर्म पर भी खराब असर होता है. Also Read - Covid-19 Risk: गर्भावस्था में हो जाए कोविड तो बढ़ता है ये खतरा, शोध में सामने आईं अहम बातें

ये शोध विर्चुअल स्लीप 2020 मीटिंग में पेश किया गया. इस शोध में पाया गया कि देर शाम या रात को डिजिटल डिवाइस और खराब स्पर्म क्वालिटी का सीधे तौर पर संबंध है. Also Read - Covid 19 Vaccine: कोविड वैक्सीन कैंसर रोगियों के लिए सुरक्षित, वैक्सीन पर शोध में सामने आई ये अहम बातें...

सेलफोन से निकलने वाला रेडिएशन एक स्वस्थ पुरुष के स्पर्म की गुणवत्ता को प्रभावित करता है.

गौरतलब है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा था कि भारतीय जनसंख्या में 23 पुरुषों में नपुंसकता होने का खतरा है.

जानकार कह रहे हैं कि अब लोगों को फोन और अन्य डिजिटल डिवाइस के प्रयोग के प्रति सतर्क हो जाना चाहिए. हर किसी को यह समझने की आवश्यकता है कि फोन का कितना और कब प्रयोग किया जाए. इसके हानिकारक प्रभावों को अनदेखा नहीं किया जा सकता.

इस शोध में यह भी कहा गया है कि देर शाम या रात के समय स्मार्टफोन और टैबलेट का प्रयोग स्पर्म की गतिशीलता को कम करता है. इन डिवाइस से शॉर्ट-वेवलेंथ लाइट निकलती है जो स्पर्म अपरिपक्वता में इजाफा करती है.