International Nurses Day 2021: पूरी दुनिया कोरोना महामारी से लड़ रही है और इसमें सबसे ज्यादा योगदान हमारे कोरोना के योद्धा (Corona Warriors) का है. इसमें सबसे आगे है डॉक्टर और नर्सेस. दिन रात लोगों की सेवा करके यह लोग उम्मीद की ज्योत जलाए हुए है. आज के दिन यानि 12 मई को नर्सेस के योगदान (Contribution) को याद करने और उनके प्रति सम्मान प्रकट करने के लिए इंटरनेशनल नर्सेस डे (International Nurse Day) मनाया जाता है. इस दिन को मनाने की शुरूआत जनवरी 1974 से ही हुई थी. मार्डन नर्सिंग की संस्थापक फ्लोरेंस नाइटिंगेल (Florence Nightingale) के जन्मदिन को पूरी दुनिया इंटरनेशनल नर्सेस डे के रूप में मनाती है. मरीजों के प्रति उनकी सेवा, साहस और उनके सराहनीय कार्यों के लिए यह दिन हर साल मनाया जाता है. Also Read - Yoga Tips For Beginners: योगासन की शुरुआत करने जा रहे हैं तो योग गुरु की ये सलाह जरूर मान लीजिए

इस दिन को मनाने का इतिहास
हर साल 12 मई को इंटरनेशनल नर्सेस डे इसलिए मनाया जाता है क्योंकि इस दिन फेलोरिंस नाइटिंगेल का जन्म हुआ था. उन्हें मार्डन नर्सिंग का संस्थापक माना जाता है और उनके जन्मदिन को इंटरनेशनल नर्सेस डे के रूप में मनाया जाने लगा. साल 1974 इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ नर्स द्वारा अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस मनाने की घोषणा कर दी गई. इस दिन इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ नर्स नर्सेस को किट बांटती है जिमसें उनके काम से संबंधित कई चीजें शामिल होती है. यह दिन नर्सों के प्रति अपना आभार जताने का है. इनके सहयोग और सेवा के बिना स्वास्थ्य सेवाएं अधूरी हैं. Also Read - International Yoga Day 2021: योग दिवस के मौके पर जानें कितने टाइप के होते हैं योगासन, ये हैं फायदे

इस साल के इंटरनेशनल नर्सेस डे का थीम
इस साल कोरोना महामारी को देखते हुए अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस 2021 की थीम नर्स: ए वॉयस टू लीड- ए विजन फॉर फ्यूचर हेल्थकेयर रखी गई है. इसका मतलब है कि ‘नेतृत्व के लिए एक आवाज: भविष्य के स्वास्थ्य के लिए दृष्टि’. इस थीम से यह पता चलता है कि नर्सों का स्वास्थ्य सेवाओं में महत्व बहुत ज्यादा है और इनके बिना स्वास्थ्य सेवाओं का सुचारू रूप से चलना असंभव है. Also Read - Father's Day 2021: पिता के साथ बनाना चाहते हैं रिश्ते को और भी मजबूत, तो इन बातों का रखें खास ख्याल