नई दिल्ली: कुछ ही दिन बाद अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस है. ऐसे में इस दिन को महिलाओं के गर्व और अधिकारों के रूप में मनाया जाता है. पूरी दुनिया इस दिन को काफी धूमधाम से मनाती है. समय काफी बदल चुका है ऐसे में महिलाएं भी आज हर एक क्षेत्र में पुरुषों से आगे निकल रही हैं. आज हर फील्ड में महिलाएं पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं. भारत में भी महिलाएं अलग-अलग क्षेत्रों में अपने टेलेंट को प्रूफ कर रही हैं. आज हम आपसे कुछ ऐसी भारतीय महिला उद्दमियों के बारे में बात कर रहे हैं जिन्होंने अपने टैलेंट की वजह से पूरी दुनिया को अपना कायल कर दिया है. इसके साथ ही महिलाओं ने ना केवल भारत में अपना नाम रोशन किया है बल्कि पूरी दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बनाई है. ये महिलाएं पूरी दुनिया की महिलाओं के लिए एक प्रेरणा स्त्रोत है. आइए जानते हैं इन महिलाओं के बारे में. Also Read - VIDEO: इस पाकिस्तानी गाने में आखिर ऐसा क्या है खास, जो इसे शेयर करने से भारतीय भी खुद को नहीं रोक पाए

Kiran Mazumdar-Shaw

Kiran Mazumdar-Shaw

किरण मजूमदार शॉ Also Read - सरकार का ऐलान, वर्ष 2022 तक देश में बनेंगे 75 लाख महिला सेल्फ हेल्प ग्रुप्स 

किरण मजूमदार शॉ बायकॉम लिमिटेड की चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्‍टर हैं. इन्‍होंने बायकॉम की शुरूआत 1978 में की थी. इसकी शुरूआत हुई थी औद्योगिक एंजाइमों के निर्माण से और आज यह एक बायो-फार्मास्युटिकल कंपनी बन चुकी है. आज यह कंपनी टॉप बायोमेडिसिन रिशर्च का सेंटर बन चुकी है जहां पर इस समय डायबिटीज पर फोकस किया जा रहा है. Also Read - महिला राजमिस्त्री, सौ वर्षीय एथलीट व मशरूम महिला समेत 15 महिलाएं नारी शक्ति पुरस्कार से सम्मानित

Zia Mody

Zia Mody

जिया मोदी
जिया मोदी एक भारतीय कानूनी सलाहकार हैं. उन्हें कॉर्पोरेट विलय और अधिग्रहण कानून, प्रतिभूति कानून, निजी इक्विटी और परियोजना वित्त के क्षेत्र में महतवपूर्ण माना जाता है. एयरटेल और टेलिनॉर के विलय के पीछे इनका ही मास्टर माइंड दिमाग था. बिजनेस टुडे ने मोदी को सितम्बर 2004 में भारत की सबसे शक्तिशाली भारतीय व्यावसायिक महिलाओ में से एक के रूप में सूचीबद्ध किया गया. 2006 में द इकोनॉमिक टाइम्स द्वारा उन्हें भारत के 100 सबसे शक्तिशाली सीईओ के रूप में सूचीबद्ध किया गया.

Suneeta Reddy

Suneeta Reddy

सुनिता रेड्डी

अपोलो अस्पताल की चेन को भारत में सबसे बड़ी चेन बनाने के पीछे सुनिता रेड्डी का बहुत बड़ा हाथ रहा है. इनकी मेहनत से वित्त वर्ष 2018 में अपोलो के रेवेन्यू में 14 फीसदी की बढ़ोतरी हुई. वहीं अपोलो फारमेसी के बिजनेस में 18 फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई.

एलिस जी वैद्यन
जनरल इंश्‍योरेंस कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया की सीएमडी हैं. वे भारत की पहली पुनर्बीमाकर्ता महिला हैं. भारतीय बीमा और पुनर्बीमा उद्योग को विकास और वृद्धि देकर 30 सालों का अनुभव पा चुकीं एलिस जी वैद्यन ने अपने करियर की शुरुआत ‘दि न्यू इंडिया’ एश्योरेंस कंपनी लिमिटेड से की. उन्होंने 2008 में उप महा प्रबंधक (पुनर्बीमा) के रूप में जीआइसी में आने से पहले देशभर में अलग अलग पदों पर काम किया. वैद्यन को कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कारों से भी नवाज़ा जा चुका है. उन्हें 2014 में वुमन इन इंश्योरेंस का पुरस्कार, सितंबर 2016 में इंडिया टुडे ने उन्हें भारतीय व्यवसाय की शक्तिशाली महिलाओं में से एक के रूप में सम्मानित किया.

mallika-srinivasan

mallika-srinivasan

मल्लिका श्रीनिवासन
सहज कारोबारी रणनीति व सूझबूझ के साथ लिए मजबूत फैसलों ने मल्लिका श्रीनिवासन को उद्योग जगत में आयरन लेडी की पहचान दिलाई है. बाजार के उतार-चढ़ावों के बीच मल्लिका ने हमेशा सीधी लकीर खींचने की रणनीति अपनाई है. यही वजह है कि आज उनकी कंपनी टैफे, ट्रैक्टर व फार्म इक्विपमेंट उद्योग की जानी-मानी ग्लोबल खिलाड़ी है.

Zarin Daruwala

Zarin Daruwala

जरीन दारुवाला

17 नवंबर 2015 को भारत में स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी के पद पर जरीन दारुवाला को नियुक्त किया गया. वह दो दशकों तक आईसीआईसीआई बैंक थोक बैंकिंग समूह की अध्यक्ष भी रह चुकी हैं. बैकिंग क्षेत्र में अपने 25 वर्ष के दौरान जरीन कारपोरेट बैंकिंग, परियोजना वित्तपोषण, ढांचागत वित्तपोषण, वित्तीय संस्थान, सरकारी और सार्वजनिक क्षेत्र बैकिंग आदि का दायित्व संभाल चुकी हैं. उन्होंने अपने करियर में कई पुरस्कार हासिल किए और उन्हें फॉर्च्यून पत्रिका की 25 शक्तिशाली महिला कारोबारियों की सूची में भी स्थान दिया गया था.

Indra Nooyi/PTI

Indra Nooyi

इंदिरा नूई

इंदिरा नूई युवा उद्यमियों के बीच एक जाना-पहचाना नाम है. ये पेप्‍सिको कंपनी की प्रेसीडेंट और सीईओ हैं. इन्‍होंने अपनी मास्‍टर डिग्री येल यूनिवसिर्टी से पब्लिक मैनेजमेंट और IIM कोलकाता से फाइनेंस और मार्केटिंग में मास्‍टर डिग्री ली है. इन्‍होंने पेप्सिको में काम करने से पहले मोटोरोला और एशिया ब्राउन बावरी में उच्‍च पदों पर भी काम किया है. इन्‍होंने व्‍यवसाय के क्षेत्र में जितनी भी उपलब्धि हासिल की है उसके लिए इन्‍हें सम्‍मानित भी किया गया है.

Renuka Ramnath

Renuka Ramnath

रेणुका रामनाथ

रेणुका रामनाथ भारत की एक निजी इक्विटी में फण्ड मेनेजर हैं. लगभग 3 दशको से रेणुका ने वित्तीय सेवाओं में आईसीआईसीआई समूह में सफलतापूर्वक कई व्यवसायों का निर्माण किया, जिसमें निवेश बैंकिंग, ई-कॉमर्स और प्राइवेट इक्विटी शामिल है. करीब 1 दशक तक आईसीआईसीआई की सीईओ व एमडी रहने के बाद उन्होंने उसे भारत के सबसे बड़ी निजी इक्विटी फंडों में से एक बनाने में पूरा नेत्रत्व किया. रेणुका 2009 में एक गुणकों को स्थापित करने वाली उद्यमी बनी.

Shikha Sharma

Shikha Sharma

शिखा शर्मा

भारत की सबसे सम्मानित बैंकरों में से एक हैं, जिन्होंने जून 2009 और अगस्त 2018 के बीच एक्सेस बैंक के शेयर की कीमतों को अपने सीईओ के रूप में सक्षम नेतृत्व में चार गुना बढ़ा दिया.

NAINALAL

NAINALAL

नैनालाल किदवई

किदवई ने अपनी बैचलर डिग्री इकोनॉमिक्‍स में दिल्‍ली यूनिवर्सिटी से प्राप्‍त की और उसके बाद इन्‍होंने एमबीए हावर्ड यूनिवर्सिटी से किया. उस समय वह हावर्ड यूनिवर्सिटी से एमबीए करने वाली पहली भारतीय महिला थीं. यह जेएम मॉर्गन स्‍टेनली की चेयरमैन रह चुकी हैं. तो वहीं इस समय ये HSBC की कंट्री हेड और ग्रुप जरनल मैनेजर हैं. ट्रेड और इंडस्‍ट्री के क्षेत्र में उपलब्ध्यिां हासिल करने के लिए इन्‍हें पद्म श्री से सम्‍मानित किया जा चुका है.