लहसुन का इस्तेमाल कई सारी सब्जियां बनाने में करते होंगे,लेकिनआ पको जानकर हैरानी होगी अगर आपको कुछ बीमारियों से दूर रहना है तो लहसुन खाना बहुत जरुरी है. कई लोगों को लहसुन का स्वाद पंसद नहीं आता है लेकिन लहसुन खाने से हाई बीपी से लेकर खून के जमाव जैसी समस्याओं का समाधान मिल जाता है. लहसुन में पावरफुल एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं. Also Read - Garlic For Health And Diet: हार्ट और पाचन के लिए वरदान है लहसुन, जानें इसे अपनी डाइट में कैसे करें शामिल

लहसुन दिल से संबंधित समस्याओं को भी दूर कर सकता है और हार्ट अटैक होने का खतरा कम हो सकता है. लहसुन खाने से लड सर्कुलेशन को कंट्रोल करने में काफी मददगार हो सकता है. पेट से जुड़ी बीमारियों जैसे डायरिया और कब्‍ज  की रोकथाम में लहसुन बेहद उपयोगी हो सकता है. खाली पेट इस पानी को पीने से डायरिया और कब्‍ज से आराम मिलने के साथ पाचन के लिए भी लहसुन को काफी मददगार माना जाता है. यही वजह है कि किसी न किसी रूप में लहसुन को अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए. Also Read - Hair Care Tips: लंबे बाल पाना चाहती हैं तो हफ्ते में एक बार बालों पर लगाएं लहसुन के ये 3 हेयर पैक

लहसुन खाने से होते हैं कई कमाल के फायदे:
1. ब्लड प्रेशर के लिए अच्छा
हाई ब्लड प्रेशर आज के दौर में एक बहुत बड़ी समस्या बनकर सामने आई है. ऐसे में आप लहसुन का सेवन करने से ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने में मददगार साबित होता है, ऐसे में अगर आपको ब्लड प्रेशर की समस्या होती है तो इसका सेवन करें. Also Read - रोजाना लहसुन खाने के ये होते हैं 10 फायदे, आप भी जान लें

2. लहसुन वजन घटाने में भी लाभदायक
लहसुन खाने से आपके शरीर में मौजूद कई सारे टॉक्सिक पदार्थ बाहर निकल जाते हैं जिसकी वजह से शरीर में मौजूद एक्ट्रा फैट बर्न हो सकती है औऱ आपका जवन तेजी से कम होता है, ऐसे में रोजाना सेवन करने से बढ़े हुए वजन कम करने में लहसुन का इस्तेमाल करें.

3. शरीर को डिटॉक्स
लहसुन में सल्फर अच्छी मात्रा में पाया जाता है. सल्फर एक ऐसा कंपाउंड है, जो आपके अंगों को धातुओं के जहरीलेपन से बचाता है, जिससे अंग डैमेज नहीं होते हैं .ऐसे में लहसुन का सेवन कर आप शरीर को डिटॉक्स कर सकते हैं.

4. लहसुन से कोलेस्ट्रॉल हो सकता है कंट्रोल
बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल आपकी धमनियों में जमा होकर धमनियों को ब्लॉक कर सकता है, जिससे दिल और दिमाग तक पर्याप्त मात्रा में ब्लड नहीं पहुंच पाता है. इसी कारण से कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर दिल की बीमारियां जैसे हार्ट अटैक, हार्ट फेल्योर के साथ-साथ स्ट्रोक का भी खतरा बढ़ सकता है.