नई दिल्ली: जबसे सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि ‘दो बालिगों की सहमति से बनाया गया अप्राकृतिक संबंध जायज है’, हर ओर इसी फैसले की चर्चा है. Also Read - ट्रांसजेंडरों को आसरा देने के लिए अक्षय कुमार ने दान किए डेढ़ करोड़ रुपये

इस फैसले से LGBT में खुशी की लहर है तो कई जगह इसके जायज-नजायज होने पर बहस चल रही है. पर इस सबके बीच क्या आप जानते हैं कि LGBT आखिर होता क्या है? क्या होता है L, G, B, T का मतलब? कौन से लोग इसमें शामिल हैं? हम बताते हैं. Also Read - Shubh Mangal Zyada Saavdhan Public Review: लोगों को पसंद आई गे केमेस्ट्री, आयुष्मान-जितेंद्र ने गजब ढाया

lgbt Also Read - आयुष्मान खुराना की पत्नी ने बेटे से पूछा Gay का मतलब, जवाब सुनकर इमोशनल हो गईं

सबसे पहले तो ये जान लीजिए कि इसे ही हिंदी में समलैंगिकता कहा जाता है. इसका अर्थ होता है किसी भी व्यक्ति का समान लिंग के व्यक्ति के प्रति यौन आकर्षण.

साधारण भाषा में किसी पुरुष का दूसरे पुरुष के प्रति या महिला का महिला के प्रति आकर्षण. इन्हें ही अंग्रेजी में ‘गे’ या ‘लेस्बियन’ कहा जाता है. अब कुछ लोग ऐसे भी हैं जो समान लिंग और विपरीत लिंग, दोनों के प्रति आकर्षित होते हैं. इन सभी के बीच क्या फर्क है, ये समझिए.

LGBT में L
मतलब लेस्बियन. यानी एक महिला या लड़की का समान लिंग के प्रति आकर्षण. इसमें दोनों पार्टनर महिला ही होती हैं. कई बार किसी एक पार्टनर का लुक, पर्सनेलिटी पुरुष जैसी हो सकती है या नहीं भी हो सकती.

lgbt

LGBT में G
यानी गे. वो लड़के या पुरुष जो समान लिंग यानी किसी लड़के या पुरुष के प्रति आकर्षित हों. यौन संबंध बनाते हों या बनाने की इच्छा रखते हों.

LGBT में B
इसका मतलब है बाईसेक्सुअल. बाईसेक्सुअल उन लोगों को कहा जाता है जो समान और विपरीत, दोनों लिंगों के प्रति यौन आकर्षण रखते हैं. यानी एक पुरुष को पुरुष और महिला, इसी तरह महिला को महिला एवं पुरुष, दोनों के प्रति यौन आकर्षण हो.

lgbt

LGBT में T
ये होता है ट्रांसजेंडर के लिए. यानी किन्नर. ऐसे लोगों में पुरुष और महिला, दोनों के गुण होते हैं.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.