मानसून के इस सीजन में लोगों को पहले फ्लू होता है और फिर कफ. खांसते-खांसते हालत खराब हो जाती है और आराम नहीं मिलता.

डॉक्‍टर के पास जाओ तो वो एंटीबायोटिक दवाओं का डोज शुरू कर देते हैं या कफ सिरप थमा देते हैं. कफ सिरप में कुछ ऐसी चीजें मिली होती हैं जिसकी वजह से नींद आती रहती है. इसे पीने के बाद कुछ काम नहीं किया जाता. कई लोगों का तो सिर भारी रहता है.

तो ऐसे में क्या किया जाए? चिंता की बात नहीं. हम आपको एक ऐसी चीज के बारे में बताने जा रहे हैं, जिससे कफ और जुकाम में जल्‍द आराम मिलेगा.

ऐसे लौंग का प्रयोग करें
हम सभी के घरों में लौंग तो होती ही है. जब खांसी आए तो कफ सिरप नहीं, बल्कि इसी लौंग की मदद लें.

– एक चिमटे की मदद से लौंग को सीधी आग में भून लें. भुनी लौंग हल्की सी फूल जाती है इसलिए घबराएं नहीं. एक बार में 3-4 भुनी लौंग चबा लीजिए. ये थोड़ी तीखी लगेगी लेकिन अगले ही मिनट खांसी कम हो जाएगी.

– लौंग में एंटी-बैक्टीरियल तत्व होते हैं जो खांसी और गले दर्द में आराम दिलाते हैं. लौंग में मौजूद इजेनॉल के कारण लौंग बलगम हटाता है और शरीर को गर्माहट देता है. आप दो से तीन बार एक दिन में भुनी लौंग ले सकते हैं.

– 2 से 3 लौंग को पीस लें. पाउडर बना लें. इस पाउडर को पानी में डालकर 10 मिनट तक उबालें. अब इसमें चाय की पत्ती और चीनी मिला लें. दूध डालकर थोड़ा उबालें और गैस बंद कर दें. चाय तैयार है. इसे दिन में दो बार पीएं. आराम मिलेगा.