वैज्ञानिकों ने आखिरकार इस बात का पता लगा लिया है कि लोग शराब क्‍यों पीते हैं, आखिर किस वजह से उन्‍हें शराब पीने की तलब होती है? Also Read - Budget 2021 में Liquor पर लगा 100 प्रतिशत सेस, लेकिन लोगों की जेब पर नहीं होगा कोई असर, जानें कैसे

Also Read - Budget 2021: शराब के शौकीनों को झटका, liquor पर लगा 100 प्रतिशत सेस

Teenage में प्रवेश करते ही बच्चों को दिखाएं ऐसे चित्र, हमेशा सिगरेट से रहेंगे दूर… Also Read - UP Liquor Policy: तय सीमा से अधिक शराब रखने के लिए लेना होगा लाइसेंस, यूपी सरकार ने जारी की नई नीति

दरअसल उन्‍होंने एक मस्तिष्क प्रोटीन की पहचान की है, जो व्यक्ति के शराब पीने की क्षमता से जुड़ा है. इन वैज्ञानिकों में एक भारतीय मूल का भी है. इस शोध से शराब की लत से परेशान लोगों के इलाज का मार्ग प्रशस्त हो सकता है.

liquor-1

शोधकर्ताओं के दल ने पाया कि मस्तिष्क प्रोटीन, जिसे एमयूएनसी 13-1 कहते हैं, वह शराब पीने की क्षमता के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. इसी वजह से शराब की तलब भी होती है.

ततैया के जहर से बनाई गई एंटीबायोटिक दवा, इस बीमारी में दिखाएगी असर…

टेक्सास के ह्यूस्टन विश्वविद्यालय के जयदीप दास ने कहा, ‘शराब की लत दुनिया भर में सबसे महत्वपूर्ण मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं में एक है. लत में पड़ने के दौरान एथेनाल या शराब व्यक्ति के व्यवहार व दिमाग में कैसे बदलाव लाते हैं, यह समझना एक बड़ी चुनौती है’.

foreign-international-liquor

दास बताते हैं, ‘अगर कोई व्यक्ति एक बार शराब पीकर उसे बर्दाश्त कर सकता है तो वह दूसरी बार और फिर पीता है. अगर हम शराब को एमयूएनसी13-1 से बंधने से रोक सकें तो यह शराबियों में शराब को बर्दाश्त करने की क्षमता घटाने में मददगार होगा. अगर हम शराब बर्दाश्त करने की क्षमता घटा सकें, तो शराब की लत लगने से भी रोक सकते हैं’.

(एजेंसी से इनपुट)

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.