Liver से जुड़ी कोई शिकायत ना हो इसके लिए खानपान में सावधानी बरतना बेहद आवश्‍यक है. इसके साथ ही एक टीका लगवाने के भी कई फायदे हैं. Also Read - फिल्म इंडस्ट्री के लिए ये बहुत बुरा साल, नहीं रहे 'इतनी शक्ति हमें देना दाता' के गीतकार अभिलाष, इलाज के लिए नहीं थे पैसे

Also Read - युवराज सिंह ने संजय दत्त को इमोशनल मैसेज भेज कहा-जानता हूं इसका दर्द क्या होता है

Tips: दोपहर के खाने के बाद सोना सही है? क्‍या होता है सेहत पर असर? Also Read - संजय दत्त को लेकर मान्यता दत्त ने जारी किया बयान- अफवाहों पर भरोसा ना करें, हम मुश्किल को हरा देंगे

दरअसल, लीवर की अधिकांश बीमारियां साइलेंट होती हैं. जब तक लक्षण प्रकट होते हैं, तब तक लगभग 50 प्रतिशत या अधिक नुकसान हो चुका होता है. समय पर पता न लग पाने और उपचार न मिलने से लीवर का सिरोसिस विशेष रूप से वायरल हेपेटाइटिस बी और सी में प्रकट होता है.

इस संक्रमण को रोकने में प्रभावी टीकाकरण कार्यक्रम महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. यह पुराने लीवर रोग और हेपेटोसेल्युलर कार्सिनोमा (एचसीसी) या लीवर कैंसर की घटनाओं को कम करने के लिए जाना जाता है.

टीकाकरण

पहला टीका : पहले दिन.

दूसरी खुराक : 1-2 महीने के बीच.

तीसरी खुराक : 4-6 महीने के बीच.

हरा और अंकुरित आलू खाना चाहिए या नहीं? किसे खाने से हो सकती है फूड प्‍वाइजनिंग?

ऐसा हो खानपान

– शराब और तंबाकू का सेवन बंद करें. अगर ऐसा नहीं कर पा रहे हैं तो उपयोग सीमित करें.

– अल्कोहल की लंबे समय तक अधिक खपत यकृत कैंसर के विकास के लिए एक प्रमुख जोखिम कारक है.

– स्वस्थ भोजन करें और फल, सब्जियां व साबुत अनाज का भरपूर उपभोग करें. ये एंटीऑक्सीडेंट से समृद्ध होते हैं और शरीर में फ्री रेडिकल्स के गठन को रोकते हैं.

– हर दिन कम से कम 30 मिनट व्यायाम करने का लक्ष्य रखें. यह ना केवल आपको फिट रखेगा, बल्कि अतिरिक्त वजन भी कम करेगा.

– हेपेटाइटिस बी के लिए टीकाकरण प्राप्त करें।

(एजेंसी से इनपुट)

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.