टोरंटो: एक अध्ययन में दावा किया गया है कि यदि आप प्रवासी हैं और आपका नाम अंग्रेजों जैसा या अंग्रेजी से प्रभावित है तो किसी मुश्किल घड़ी में आपको मदद मिलने की संभावना दूसरों की तुलना में अधिक है. इस अध्ययन में दिखाया गया है कि लोग देसी लगने वाले नामों के खिलाफ पूर्वाग्रह से ग्रसित होते हैं.

Tips: चिढ़े-चिढ़े रहते हैं, कहीं सेहत तो खराब नहीं? क्‍यों चेकअप कराना है जरूरी?

कई प्रवासी अपनी मर्जी से अपना नाम बदलकर कुछ ऐसा रख लेते हैं जिससे वे नए समुदाय में खुद को ज्यादा फिट मान सकें. ‘सोशल साइकोलॉजिकल एंड पर्सनालिटी साइंस’ नाम की पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक, देसी नामों को बदलकर अंग्रेजी से प्रभावित बनाने से प्रवासियों के खिलाफ पूर्वाग्रह कम होने की संभावना रहती है.

सर्दियों में आंखों में हो सूखापन या खुजली, ऐसे करें देखभाल

कनाडा में यूनिवर्सिटी ऑफ टोरंटो के श्यान झाओ ने बताया कि हम कभी सुझाव नहीं देते कि भेदभाव से बचने के लिए प्रवासियों को अपने देसी नाम को अंग्रेजीदां बना लेना चाहिए. (एजेंसी इनपुट)

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.