अक्‍सर बच्‍चों को नाश्‍ते में दूध दिया जाता है. बच्‍चे पी भी लेते हैं. हम सभी ये जानते हैं कि दूध सेहत के लिए अच्‍छा होता है. शायद इसीलिए बच्‍चों को देते हैं. पर हममें से कितने ही लोग हैं जो नाश्‍ते में दूध पीते होंगे.

गिने-चुने लोग इसका जवाब हां में दे सकते हैं. पर ज्‍यादातर लोगों का जवाब ‘ना’ ही होगा.

इसीलिए आज हम आपको एक ऐसे शोध के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे पढ़कर आप सब नाश्‍ते में दूध पीने के बारे में सोचेंगे.

कुछ समय पहले ही एक शोध हुआ था. इस शोध में नाश्‍ते में दूध के सेवन के फायदों के बारे में जाना गया. शोध की रिपोर्ट में पता चला कि नाश्ते में उच्च प्रोटीन वाला दूध पीने से मधुमेह रोगियों को रक्त में शर्करा को नियंत्रण में रखने में मदद मिली.

Alert: सेक्‍स के कारण हुई एलर्जी, मरने की कगार पर पहुंची महिला, डॉक्‍टर्स ने कहा किसी को भी…

शोध किया था कनाडा की यूनिवर्सिटी ऑफ ग्वेल्फ और यूनिवर्सिटी ऑफ टोरंटो के अनुसंधानकर्ताओं ने. इसमें पता चला कि नाश्ते में अगर बदलाव किया जाए, तो इससे टाइप टू मधुमेह के नियंत्रण में मदद मिलती है. साथ ही उम्र के बढ़ने से शरीर में होने वाले बदलाव धीमे हो जाते हैं. इससे त्‍वचा में कसाव आता है.

अनुसंधान के परिणाम के मुताबिक, नाश्ते के दौरान लिये गए दूध से रक्त में ग्लूकोज की मात्रा में कमी आई. इसमें कहा गया कि उच्च प्रोटीन वाला दूध सामान्य प्रोटीन वाले डेयरी उत्पादों की तुलना में खाने के बाद ग्लूकोज की मात्रा में कमी लाने में सहायक सिद्ध होता है.

‘जर्नल ऑफ डेयरी साइंस’ में प्रकाशित अध्ययन रिपोर्ट में कहा गया कि नाश्ते के समय दूध पीना चाहिए. इससे कार्बोहाइड्रेट का पाचन धीरे-धीरे होता है और इससे रक्त में शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद मिलती है.

अनुसंधानकर्ताओं ने कहा है कि पोषण विशेषज्ञ हमेशा से पोषक तत्वों से भरपूर नाश्ते की हिमायत करते रहे हैं और यह अध्ययन नाश्ते में दूध को भी शामिल करने को बढ़ावा देता है.

लाइफस्‍टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.