मानसून का सीजन है. इस सीजन में सबसे ज्‍यादा फ्लू होता है. पेट से संबंधित बीमारियां होती हैं. दरअसल इस सीजन में पाचन काफी स्‍लो रहता है. इसलिए सोच-समझकर खाने की सलाह दी जाती है. Also Read - अगले सप्ताह से वापस होगा मानसून, कई राज्यों में हो सकती है भारी बारिश, जानें मौसम के बारे में क्या है आईएमडी की रिपोर्ट

अगर आप भी मानसून के इस सीजन में बीमार होने से बचना चाहते हैं तो कुछ चीजों को बिल्‍कुल ना खाएं. Also Read - हंगामे के बीच चार बार स्थगित हुई लोकसभा की कार्यवाही, संसद में लगे ‘अनुराग ठाकुर माफी मांगो’ के नारे

Also Read - Weather Update: मौसन विभाग ने दी जानकारी- इन राज्यों में फिर हो सकती है मॉनसून की वापसी

– लंबे समय से कटे फल
इस मौसम में कंटेनर में बंद फल खाना नुकसानदेह साबित हो सकता है. खासकर तब जब आपने उन्‍हें लंबे समय से काटकर रख दिया हो. इन फलों को खाने से पेट में इन्‍फेशन होने के चांस बढ़ते हैं. यही नहीं इस मौसम में सड़क किनारे कटे फल खरीदकर भी नहीं खाने चाहिए.

– पकोड़े और समोसे आदि तले भोजन खाने से परहेज करें. हालांकि बारिश में चाय-पकौड़े की बात ही कुछ और होती है, पर ये इस मौसम में जल्‍दी पते नहीं. चूंकि मानसून में पाचन क्रिया बेहद धीमी हो जाती है, इसलिए तला-भुना नुकसानदायक साबित होता है.

– मानसून में सी फूड खाने से मना किया जाता है. चूंकि ये सीजन मछलियों का ब्रीडिंग सीजन होता है इसलिए इस मौसम में मछलियों के अंदर अंडे होते हैं. जिन्‍हें खाने से आपको फूड पॉयजनिंग या पेट में इन्‍फेक्‍शन हो सकता है.

– आमतौर पर हरी सब्जियों को खाना स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक माना जाता है. पर मानसून में इसे सही नहीं माना जाता. इस मौसम में उनमें सबसे अधिक किटाणू पनपते हैं. पालक, बंदगोभी आदि सब्जियों के सेवन से बचना चाहिए.

– मशरूम को खाने से पहले अच्‍छी तरह से साफ करने की सलाह दी जाती है. पर मानसून में इसे खाने से बैक्‍टीरियल इन्‍फेक्‍शन होने के सबसे अधिक चांस होते हैं.