लॉस एंजिलिस: वैज्ञानिकों ने प्लुरिपोटेंट स्टेम कोशिकाओं को परिपक्व टी कोशिकाओं में बदलने में सक्षम एक नई तकनीक विकसित की है जो ट्यूमर को खत्म करने में कारगर हो सकती है. Also Read - Health Tips: घंटों एक ही जगह बैठे रहने से आपको हो सकता है डायबिटीज और कैंसर का खतरा, ये हैं कारण

Also Read - Nobel Prize 2020: 'हेपेटाइटिस सी वायरस' की खोज करने वाले तीन वैज्ञानिकों को मिला नोबेल पुरस्कार, जानिए क्या है ये बीमारी

कितने साल जीएंगे आप, कब होगी आपकी मौत, ऐसे लगाया जा सकता है पता Also Read - फिल्म इंडस्ट्री के लिए ये बहुत बुरा साल, नहीं रहे 'इतनी शक्ति हमें देना दाता' के गीतकार अभिलाष, इलाज के लिए नहीं थे पैसे

अमेरिका में यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया, लॉस एंजिलिस के शोधकर्ताओं ने यह तकनीक विकसित की है. यह शोध पत्रिका सेल ‘स्टेम सेल’ में प्रकाशित हुआ है. टी कोशिकाएं प्रतिरक्षा तंत्र की कोशिकाएं होती है जो संक्रमणों से लड़ती है. साथ ही उनमें कैंसर की कोशिकाओं को खत्म करने की क्षमता होती है. शोध के अनुसार, इस तकनीक की मदद से खुद से बनने वाली प्लुरिपोटेंट स्टेम कोशिकाओं से टी कोशिकाओं में बदलने की क्षमता कैंसर के इलाज में कारगर हो सकती हैं.

Tips: यदि आप बढ़ती उम्र संबंधी बीमारियों से बचना चाहते हैं तो करें ये काम, मिलेगा positive रिस्‍पांस

शोधकर्ताओं ने कहा कि यह अध्ययन एचआईवी और स्व प्रतिरक्षित बीमारियों जैसे वायरल संक्रमण के लिए टी सेल थेरेपी पर और शोध के लिए प्रेरित कर सकता है.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.