नई दिल्ली: 16 सितंबर को पूरी दुनिया में ओजोन दिवस मनाया जाता है. जीवन के लिए ऑक्सीजन से ज्यादा जरूरी ओजोन है और इस दिवस को मनाने की यही वजह है कि ओजोन लेयर के बारे में लोगों को जागरूक किया जा सके, साथ ही इसे बचाने के लिए समाधान निकाले जा सके.

जानें क्या है ओजोन परत
ओजोन परत पृथ्वी के वायुमंडल की एक परत है. ओजोन लेयर हमें सूरज से आने वाली अल्ट्रावायलेट किरणों से बचाती है. ओजोन की परत की खोज 1913 में फ्रांस के भौतिकविदों फैबरी चार्ल्स और हेनरी बुसोन ने की थी. ओजोन (O3) आक्सीजन के तीन परमाणुओं से मिलकर बनने वाली एक गैस है.

ओजोन जदिवस का इतिहास
संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) ने 19 दिसंबर, 1994 को 16 सितंबर को ओजोन परत के संरक्षण के लिए अंतरराष्ट्रीय दिवस घोषित किया. 16 सितंबर 1987 को संयुक्त राष्ट्र और 45 अन्य देशों ने ओजोन परत को खत्म करने वाले पदार्थों पर मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल पर हस्ताक्षर किए थे. मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल का उद्देश्य ओजोन परत की कमी के लिए जिम्मेदार पदार्थों के उत्पादन को कम करके ओजोन परत की रक्षा करना है. 16 सितंबर 1995 को पहली बार विश्व ओजोन दिवस मनाया गया.

ओजोन दिवस 2020 थीम

लोगों को ओजोन परत के महत्व और पर्यावरण पर पड़ने वाले उसके असर के बारे में जानकारी देने के लिए हर साल 16 सितंबर को ‘विश्व ओजोन दिवस’ मनाया जाता है. इस साल आयोजित होने जा रहे विश्व ओजोन दिवस की थीम ‘जीवन के लिए ओजोनः ओजोन परत संरक्षण के 35 साल’ आपको बता दें कि इस बार वैश्विक ओजोन परत संरक्षण के 35 साल पूरे हो गए हैं.