नई दिल्‍ली: पहाड़ों में बर्फबारी के चलते मैदान में इस समय कड़ाके की ठंड पड़ रही है. इसके चलते लोगों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. सर्दी-जुकाम के चलते कईयों का हाल बुरा है. यूं तो सर्दी-जुकाम से ज्‍यादा घबराने की जरूरत नहीं होती, लेकिन अगर ठंड बढ़ने के साथ कान में दर्द की शिकायत होने लगे तो अलर्ट हो जाना चाहिए. ये दिक्‍कत ज्यादातर बच्चों में देखी जाती . कई मर्तबा तो बड़ों को भी इस समस्या से जूझना पड़ता है. कान के दर्द को कई बार हल्के में लिया जाता है जो कि आगे चलकर काफी खतरनाक हो सकता है. ऐसे में हम आपको बताते हैं कि इससे बचने और इलाज के लिए जरूरी उपाय.

Health Tips: दोपहर में सोने का मन है तो क्‍या करें, पढ़ें आपकी हर जिज्ञासा होगी दूर

1. सर्दी-जुकाम अगर ज्‍यादा दिन रहे तो नाक के पिछले भाग से कान तक आने वाली यूस्टेकियन ट्यूब ठीक से काम करना बंद कर देती है, जिससे संक्रमण, सूजन आ जाती है और कान में द्रव्य बढ़ने से कान में दबाव असामान्य हो जाता है और दर्द होने लगता है. ऐसे में फौरन डाक्‍टरों को दिखाना चाहिए.
2. कई बार दांतों की कोई समस्या होने पर भी कान में दर्द शुरु हो जाता है. इसका इलाज करने के लिए डॉक्टर की सलाह जरुर लें. साथ ही अगर घर पर भी कुछ घरेलू उपाय करके इससे निपटा जा सकता है. जैसे प्याज के रस की दो से तीन बूंदे डालें. इससे आराम मिलेगा.
3. सरसों के तेल को हल्का सा गर्म करके एक बूंद कान में डालें को आराम मिलेगा लेकिन समस्या गंभीर होने पर डॉक्टर की सलाह लें. साथ ही तेल को गर्म करते समय साफ-सफाई का ध्यान जरुर रखें.

क्‍या आप भी 6 घंटे से कम नींद लेते हैं तो खतरे में है आपका ‘दिल’
4. लहसुन भी कान के दर्द में कारगर है. लहसुन की एक या दो कलियां लेकर उसे सरसों के तेल में रखें और गर्म करें. जब कलियां थोड़ी सी पक जाएं और भूरी हो जाएं तो तेल के हल्का गुनगुना होने पर कान में एक या दो बूंद डालें.
5. किसी भी तरह के फंगल इंफेक्शन होने पर डॉक्टर से ही इलाज करवाएं. खुद से किसी भी तरह के कोई नुकीली चीज कान के अंगर ना डालें. कान की सफाई बीच-बीच में किसी अच्छे चिकित्सक से कराते रहें.

Health Alert: जानें क्या है ‘विंटर ब्लू’, सर्दियों में क्यों बढ़ते हैं लोगों में Depression के लक्षण

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.