नई दिल्ली: अक्सर आपने देखा होगा कि छोटे बच्चों की घर के बड़े बुजुर्ग मालिश करते हैं. मालिश करने से बच्चों की हड्डियां और मांसपेशियां मजबूत होती हैं. ऐसे में जरूरी होता है कि बच्चे की दिन में तीन बार मालिश करना आवश्यक होता है. क्योंकि वे इतने नाज़ुक होते हैं कि उनके बीमार पड़ने की संभावना बढ़ जाती है. अक्सर ठंड में मांएं अपने बच्चे को नहलाने से पहले तेल मालिश करती हैं, ताकि बच्चे का शरीर गर्म रहे. छोटे बच्चों की मांसपेशियों की मज़बूती और सेहत के लिए मालिश बेहद ज़रूरी भी है. हालांकि, शिशु को मालिश करते वक्त इस बात का भी ख्याल रखना ज़रूरी है कि मालिश सही तरीके से की जाए. ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि बच्चों की मालिश करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना काफी जरूरी है जो कि कुछ इस प्रकार हैं-Also Read - Kids Mental Health During Corona Period: लॉकडाउन के बीच बच्चों में बढ़ रहा है तनाव, इन टिप्स के जरिए रखें उनकी मेंटल हेल्थ का ख्याल

– बच्‍चों की त्‍वचा बहुत नाजुक होती है इसलिए उनकी मालिश के दौरान बहुत सावधान रहें. हमेशा हल्‍के हाथों से ही मालिश करें. हाथों से मालिश शुरू करते हुए पैरों, छाती, पेट और फिर पीठ की म‍ालिश करें. Also Read - Parenting Tips: बच्चे की प्लानिंग करने से पहले पार्टनर के साथ जरूर डिस्कस करें ये बातें

– बच्चे की मालिश करते समय ज्यादा तेल का इस्तेमाल ना करें. क्योंकि इससे बच्चे को रैशेज हो सकते हैं. Also Read - Healthy Parenting With Corona Virus: अगर माता और पिता दोनों हैं कोरोना पॉजिटिव तो जानें कैसे रखें अपने बच्चे का ख्याल, ऐसी रखें तैयारी

– इसके अलावा कई बार बच्चे के मुंह पर छोटे-छोटे दाने निकल आते हैं. इनमें कई बार दर्द और खुजली भी होने लगती है. ये दाने वक्त के साथ इंफेक्शन का रूप ले सकते हैं और पूरे शरीर में फैल सकते हैं. इसके लिए आप नारियल के तेल की मालिश कर इसे सही किया जा सकता है.

– नाभि, आंखों और नाक के आसपास तेल न लगाएं क्‍योंकि इन हिस्‍सों में तेल जाने से बच्‍चे को इंफेक्‍शन हो सकता है.

– बच्चे को मसाज करते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि आपके नाखून कटे होने चाहिए. अगर आपके नाखून कटे नहीं होंगे तो इससे मसाज करते वक्त आपके बच्चे को खरोंच आ सकती है.