Piercing During Monsoon: पियर्सिंग से आपका लुक बिल्कुल चेंज हो जाता है. अक्सर महिलाएं कान और नाक की पियर्सिंग करवाती है. लेकिन अब लोग आईब्रो और पेट में भी पियर्सिंग करवाती हैं. पियर्सिंग करवाते समय काफी सावधानी बरतनी होती है. खासतौर पर मानसून के मौसम में. आज हम आपको मानसून के मौसम में पियर्सिंग करवाने से होने वाली दिक्कतों के बारे में बताने जा रहे हैं आइए जानते हैं.Also Read - दिल्ली में मानसून के इस मौसम में 46 वर्षों में सबसे अधिक बारिश, IGI और सड़कें बनी दरिया

सूजन- मानसून में पियर्सिंग करवाने से उस जगह पर सूजन बढ़ जाती है. बारिश के मौसम में सूजन और भी ज्यादा गंभीर हो जाती है. जिससे दर्द शुरू हो जाता है. Also Read - उत्तर प्रदेश में मानसून के फिर जोर पकड़ने की संभावना, जानिए यूपी में कब और कहां होगी बारिश

जलन- नमी और ज़्यादा पसीने की वजह से त्वचा के पोर्स में तेल और गंदगी भर सकती है. जिसकी वजह से पियर्सिंग वाली जगह में दर्द, सूजन और रेडनेस बढ़ जाती है. Also Read - Monsoon Update in India: देश में कब तक रहेगा 'कमजोर मानसून' का दौर, किस राज्य में हुई कम वर्षा

चकत्ते- गर्मी के कारण पियर्सिंग वाली जगह पर खुजली होने लगती है. इस जगह पर बार-बार खुजलाने से इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है.

पस आना- बारिश के मौसम में बैक्टीरिया होना आम बात है. जिससे पस निकलने की समस्या हो जाती है. इस मौसम में पियर्सिंग करवाने से पस की समस्या भी हो सकती है.

LINK:

(डिस्केलमर: लेख में दी गई सलाह केवल सामान्य जानकारी है. ये एक्सपर्ट की राय नहीं है.)