Proning Position increases oxygen level in Covid-19 Patients: देश कोरोना की दूसरी लहर को झेल रहा है और कई लोग इस समय कोविड-19 संक्रमण से जूझ रहे है. अगर आप भी कोरोना से संक्रमित है और और घर पर ही आईसोलेशन में है और कभी-कभी सांस लेने में तकलीफ हो रही है तो घबराए नहीं. हम आपकों बेहद सरल उपाय बताएंगे जिससे आप घर पर ही रहकर बिना किसी आक्सीजन सिलेंडर के अपना इलाज अच्छे से कर सकतें है. आपको प्रोनिंग पोजीशन (Proning Position) से सांस लेनी है. प्रोनिंग पोजीशन में आपको उल्टा लेटना होगा और गहरी सांसे लेनी होगी.Also Read - वीडियो: मोगरा की चाय पीने के हैं कई बेहतरीन फायदे, आज ही डाइट में शामिल करें - Watch

आपकों बता दें कि प्रोनिंग पोजीशन बहुत ही पुरानी तकनीक है जिसे शरीर में आक्सीजन की मात्रा को बढ़ने के लिए यूज किया जाता है. यह बहुत फायदेमंद है जिसे देखते हुए भारत सरकार हेल्‍थ मिनिस्‍ट्री ने भी अपने वेबसाइट और ट्वीटर पेज पर इसकी जानकारी साझा की है. यह तकनीक उन लोगों को काफी फायदा पहुंचा सकती है जो इस समय कोरोना से संक्रमित है और उन्हें सांस लेने में दिक्कत हो रही है. Also Read - क्या आपको भी पसंद है लीची तो जानिए इसके बेमिसाल फ़ायदों के बारे में - Watch Video

जानें प्रोनिंग पोजीशन के बारे में
भारत सरकार की मिनिस्‍ट्री ऑफ हेल्‍थ एंड फैमिली वेलफेयर (Ministry of Health and Family Welfare) के द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार होम आइसोलेशन में रह रहे कोरोना मरीजों के लिए प्रोनिंग पोजीशन बहुत फायदेमंद है. प्रोनिंग पोजीशन से कोरोना मरीजों के शरीर में ऑक्‍सीजन की कमी को तुरंत ठीक किया जा सकता है. हेल्‍थ मिनिस्‍ट्री के अनुसार अगर आपके शरीर में ऑक्‍सीजन लेवल 94 से कम हो रहा है तो आप इस तकनीक का इस्तेमाल करके ऑक्‍सीजन लेवल को बढ़ा सकते है. Also Read - Moles On Skin: शरीर के इन अंगों में तिल का होना माना जाता है शुभ, यहां जानिए कितने लकी हैं आप | Watch

कैसे करें प्रोनिंग पोजीशन
प्रोनिंग पोजीशन के लिए सबसे पहले आप 4 से 5 तकिया लें. एक तकिया गर्दन के नीचे रखें, एक दो छाती पर रखें, एक अपर थाई पर रखें और दो तकिया लोअर पंजों के निचले हिस्‍से में रखें. आप सबसे पहले सभी तकिया को ऊपर बताई गई जगहों पर रखें और आधे घंटे से लेकर 2 घंटे तक पेट के बल लेट जाएं. इसके बाद आप आधे घंटे से लेकर 2 घंटे तक दाहिने करबट में लेटें. आप सिटिंग पोजीशन में बैठे. फिर आप दाहिने करबट लेटें. आप दुबारा पेट के बल लेटें. आप हर थोड़ी देर में अपनी पोजीशन बदलते रहें.

प्रोनिंग पोजीशन कब ना करें

-आपकों प्रोनिंग पोजीशन को खाने के कम से कम 1 घंटे बाद तक नहीं करना चाहिए.
-अगर आप प्रेगनेंट है तो यह प्रोनिंग पोजीशन को ट्राई नहीं करना चाहिए.
-प्रोनिंग पोजीशन करने के बाद 48 घंटे के बाद भी दिक्‍कत हो तो डॉक्‍टर की सलाह जरूर लें.
-अगर आपकों मेजर कार्डियक प्रॉब्‍लम हो तो प्रोनिंग पोजीशन ना ट्राई करें
-अगर आपकों स्‍पाइनल कॉड में इंज्‍यूरी, पेल्विक फ्रैक्‍चर है तो यह आप ना ट्राई करें.

प्रोनिंग पोजीशन पर क्या एक्सपर्ट की राय
जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के असिस्टेंट प्रोफ़ेसर और फेफड़ों तथा क्रिटिकल केयर के मेडिसिन एक्सपर्ट पानागिस गालियातस्तोस ने BBC से बात में बताया कि कोविड-19 (Covid-19) के ज्यादातर मरीजों फेफड़ों तक पर्याप्त आक्सीजन नहीं पहुंच पाता जिससे उन्हें सेंस लेने में तकलीफ होने लगती है. गालियातस्तोस के मुताबिक प्रोनिंग पोजीशन के सहारे शरीर में आक्सीजन का मात्रा को बढ़ाया जा सकता है.