Kashi Puppet Ramlila 2020: कोरोना काल में बहुत कुछ बदल गया है. धार्मिक और सांस्कृतिक कार्यक्रम भी इसके अपवाद नहीं. इसी के चलते इस बार प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में रामलीला को मुखौटों और पपेट के माध्यम से डिजिटल प्लेटफॉर्म पर देश-विदेश में प्रदर्शित किये जाने की तैयारी है. Also Read - Ramlila 2020: क्या इस साल होगी रामलीला, रावण संग जलाया जाएगा कोरोना का पुतला!

रामलीला को डिजिटल प्लेटफॉर्म में उतारने की पहल काशी घाटवॉक ने की है. उन्होंने इसके लिए हर पात्र के मुखौटे तैयार किये हैं. काशी घाटवॉक के संयोजक बीएचयू के न्यूरोलॉजिस्ट प्रो. वी एन मिश्रा ने बताया कि कोरोना संकट में इस बार भावी पीढ़ी रामलीला से वंचित न रह जाए, इसी लिहाज से पपेट रामलीला का आयोजन किया जा रहा है. Also Read - Lal Quila RamLila 2020: क्या इस बार होगी लाल किले की मशहूर रामलीला?

मुखौटा बनाने वाले कलाकार राजेन्द्र श्रीवास्तव की टीम ने कागज की लुग्दी से बने 12 मुखौटों का सेट तैयार किया है. इसमें राम, रावण, कुंभकरण, मेघनाद, हनुमान जैसे अनेकों पात्र हैं. पात्रों के संवाद डब किये जा रहे हैं. जिसे यूट्यूब पर डाला जाएगा. Also Read - Ramlila 2020: इस बार खास होगी अयोध्या की रामलीला, मंचन करेंगे BJP सांसद-फिल्मी सितारे

मुखौटे अपना संवाद बोलेंगे. 30 सितंबर से 30 अक्टूबर तक रामलीला सोशल मीडिया में प्रसारित की जाएगी. 2 मिनट का वीडियो हर रोज ट्विटर , फेसबुक, इन्स्टाग्राम पर डाला जाएगा.

मुखौटा और पपेट के माध्यम से मंचन किया जाएगा, फिलहाल इसकी रिकॉर्डिंग की जा रही है. रामलीला रामनगर, तुलसीघाट और चित्रकूट से मिलकर तैयार की गई है. तीनों रामलीला के संवादों को इसमें लिया गया है.

मुखौटा बनाने वाले राजेन्द्र श्रीवास्तव ने बताया कि 4-5 फीट के पपेट बनाए गये हैं. कुछ मुखौटे हैं, जो छड़ी के माध्यम से एक्शन करेंगे, पूरा ऑनलाइन मंचन होगा. रिहर्सल चल रही है. इसे विशेष तौर पर बच्चों के लिए तैयार किया गया है.
(एजेंसी से इनपुट)