नई दिल्ली:  रमजान का पावन महीना शुरू हो चुका है. लोगों का मानना है कि इस महीने में जो भी दुआ मांगी जाए वह पूरी ,हो जाती है. इस्लामिक कैलेंडर के मुताबिक रमजान मका यह महीना काफी पावन होता है. रमजान के महीने में मुस्लिम परिवार सुबह सूरज निकलने से पहले खाना खाते है जिसे ‘सहरी’ बोलते हैं और फिर सूरज ढलने के बाद खाते है जिसे इफ्तार कहते हैं. इफ्तार के लिए पहले 3 खजूर खाए जाते है. कहा जाता है की प्रोफेट मोहम्मद ने भी अपना रोजा 3 खजूर और पानी पीकर ही तोड़ा था. तभी से खजूर को रमजान का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बना दिया गया. Also Read - Eid ul Fitr 2020 : आज बंद रहेगी जामा मस्जिद, केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नक़वी ने घर पर ही अदा की नमाज

बता दें कि रमजान में खजूर खाने के कई फायदे हैं. खजूर एक ऐसा फल है जो आपकी सेहत के लिए बहुत ही अच्‍छा है. इसमें ढेरों पोषक तत्‍व पाए जाते हैं और माना जाता है कि ये कई बीमार‍ियों को दूर कर सकता है. यहां पर हम आपको खजूर के कुछ चमत्‍कारी फायदों के बारे में बता रहे हैं: Also Read - Corona और Lockdown से फीकी पड़ी ईद की रंगत, नहीं सजे बाजार, त्योहार में सूनी पड़ी सड़कें

– आयरन से भरपूर खजूर प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए बेहद ही उपयोगी होता है. खजूर में मौजूद पोषक तत्‍व यूट्रेस यानी कि गर्भाशय की मांसपेश‍ियों को मजबूती देने का काम भी करते हैं. खजूर मां के दूध को भी जरूरी पोषक तत्‍व देता है. Also Read - Eid in Kerala 2020 Live Chand Raat: केरल में आज नजर आ सकता है ईद का चांद

– इफ्तार के समय सबसे पहले खजूर खा कर रोजा तोड़ना चाहिये. यह स्‍वादिष्‍ट होने के साथ साथ पौष्टिक भी होते हैं. इनमें प्राकृतिक शक्‍कर पाई जाती है जो शरीर को एनर्जी से भर देता है.

– खजूर में फाइबर की मात्रा काफी होती है. जो आपके पाचन तंत्र की सफाई करने के काम आता है. इसे खाने से कब्ज की समस्या भी दूर होती है.

– खजूर में पोटैश‍ियम भी होता है जो हार्ट अटैक के खतरे को काफी हद तक टाल सकता है.

– खजूर में मैग्नीशियम की भारी मात्रा पाई जाती है. जो हार्ट अटैक, गठिया और अल्जाइमर जैसे रोगों से लड़ने की ताकत देता है.