लंदन: अक्‍सर हम सभी को हिदायत मिली होती है कि घर में घुसने से पहले जूते बाहर उतार दें. पर अगर कोई कहे कि ये आदत आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए भी लाभदायक है, तो क्‍या आप उस यकीन करेंगे? Also Read - इस बॉलीवुड एक्ट्रेस ने अब साड़ी पहनकर किया पुश अप्स...VIDEO देख हो जाएंगे हैरान

शायद इस खबर को पढ़ने के बाद आपके इस संबंध में विचार बदल जाएं. जी हां, एक नए शोध में ये बात सामने आई है कि घर के बाहर जूते उतारने का पॉजिटिव असर हमारी हेल्‍थ पर होता है. Also Read - Disha Patani Sexy Photos: दिशा पाटनी ने हॉट फोटो शेयर कर बढ़ाया इंटरनेट का तापमान, हुस्न की तपिश में जल गए फैंस

शोध में कहा गया है कि घर में घुसने से पहले जूते उतारने से व्यक्ति चुस्त-दुरुस्त रहता है. दरअसल, ये आदत हमारे हार्मोंस में बदलाव लाने वाले रसायनों को घर के भीतर एकत्रित होने से रोकती है. Also Read - कंगना रनौत ने वीडियो शेयर कर लिखा- मार-मार कर चमड़ी उधेड़ दो

shoes1

शोध में कहा गया है कि हमारे शरीर में वसा एकत्रित करने वाले और उनके प्रसंस्करण के लिए जिम्मेदार रसायनों को ‘ओबसोजिन्स’ कहा जाता है. इन रसायनों को ही मोटापे के बढ़ते मामलों के लिए संभावित तौर पर जिम्मेदार बताया जाता है.

शोध करने वाली पुर्तगाल की यूनिवर्सिटी ऑफ एवियरो एवं यूनिवर्सिटी ऑफ बेयारा इंटीरियर के अनुसंधानकर्ताओं ने ये बात कही है. शोध के दौरान उन्‍होंने पहले से किये गए अध्ययनों की समीक्षा भी की. उन्‍होंने कहा कि भोजन, घरों की धूल और साफ-सफाई, रसोई या साज-सज्जा में इस्‍तेमाल किए गए रसायनों जैसे दैनिक इस्तेमाल की वस्तुओं के जरिये ये ओबसोजिन्स घर में पहुंचते हैं.

इस बारे में लिस्बन विश्वविद्यालय की अना कैटरीना सोसा ने कहा, ‘ओबसोजिन्स किसी भी जगह मिल सकता है. हमारा खाना इसका सबसे बड़ा स्रोत है क्योंकि कुछ कीटाणुनाशक और कृत्रिम मीठे पदार्थ ओबजिन्स हैं’. सोसा ने कहा कि इसी प्रकार वे प्लास्टिक और घरेलू सामानों में विद्यमान होते हैं. इसलिए पूरी तरह उसके संपर्क से बाहर होना बहुत मुश्किल है लेकिन उल्लेखनीय रूप से उसमें कमी लाना ना सिर्फ मुमकिन है बल्कि बहुत आसान भी है.

इस अध्ययन के आधार पर अनुसंधानकर्ताओं ने घर में प्रवेश करते समय जूते खोलने का सुझाव दिया ताकि ऐसे दूषित पदार्थ जूते के सोल के जरिये घर में ना पहुंच सकें. उन्होंने समय-समय पर सफाई करने और घर या कार्यस्थल पर कारपेट बिछाने के लिए भी कहा है. अनुसंधानकर्ताओं ने लोगों को ताजा खाना खाने और ऑर्गेनिक फलों को तरजीह देने का परामर्श दिया.
(एजेंसी से इनपुट)