Republic Day 2021 Shayari: लहू वतन के शहीदों का रंग लाया है, उछल रहा है जमाने में नाम-ए-आजादी... पढ़ें खास शायरियां

Republic Day 2021 Shayari: गणतंत्र दिवस पर शायरी का अपना अलग महत्व होता है. आइए एक नजर डालते हैं इन शायरियों पर-

Updated: January 25, 2021 3:37 PM IST

By India.com Hindi News Desk | Edited by Deepika Negi

Republic Day 2021 Shayari: लहू वतन के शहीदों का रंग लाया है, उछल रहा है जमाने में नाम-ए-आजादी... पढ़ें खास शायरियां

Republic Day 2021 Shayari: 26 जनवरी या गणतंत्र दिवस भारत के लिए काफी अहम दिन होता है. दिन दिल्ली के राजपथ पर परेड निकाली जाती है और भारत के राष्ट्रपति इस परेड की सलामी लेते हैं. इसी दिन सन् 1950 को भारत सरकार अधिनियम (एक्ट) (1935) को हटाकर भारत का संविधान लागू किया गया था. गणतंत्र दिवस पर शायरी का अपना अलग महत्व होता है. आइए एक नजर डालते हैं इन शायरियों पर-

Also Read:

ज़माने भर में मिलते हे आशिक कई,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता .
नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हैं कई,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता ..

देश भक्तों के बलिदान से ,
स्वतंत्र हुए है हम ..
कोई पूछे कौन हो ,
तो गर्व से कहेंगे .
भारतीय है हम …
गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं

ऐ शांति अहिंसा की उड़ती हुई परी
आ तू भी आ कि आ गई छब्बीस जनवरी
-नजीर बनारसी

आज फिर है हमें ख़ुशी ऐ दोस्त
आई छब्बीस जनवरी ऐ दोस्त
यानी तारीख वो कि जब भारत
पा गया अपनी गुम-शुदा दौलत
हम जमाने में बारयाब हुए
अपने मकसद में कामयाब हुए
-आदिल जाफरी

लहू वतन के शहीदों का रंग लाया है
उछल रहा है जमाने में नाम-ए-आजादी
-फिराक गोरखपुरी

हिन्दोस्तान खुश है
हर पासबान खुश है
हर नौ-जवान खुश है
सारा जहान खुश है
एक जोश-ए-सरमदी है
छब्बीस जनवरी है
-कंवल डिबाइवी

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें लाइफस्टाइल की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date: January 25, 2021 2:53 PM IST

Updated Date: January 25, 2021 3:37 PM IST