न्यूयॉर्क: द्वितीय विश्वयुद्ध के सबसे बुजुर्ग योद्धा और देश के सबसे बुजुर्ग व्यक्ति रिचर्ड ओवरटन का निधन हो गया है. वह 112 साल के थे. रिचर्ड ओवरटन के परिवार ने यह जानकारी दी. सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक, रिचर्ड ओवरटन का निधन गुरुवार को हुआ. परिवार की सदस्य शर्ली ओवरटन ने कहा कि उन्हें निमोनिया होने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

Winter Tips: सर्दियों में हार्ट अटैक की वजह क्‍या है? डॉक्‍टर्स की एडवाइजरी पढ़ें, जानें कैसे रखें दिल का ख्‍याल…

रिचर्ड ओवरटन स्वेच्छा से सेना में 1942 में शामिल हुए थे और उन्होंने 188वें एविएशन इंजीनियर बटालियन में सेवाएं दीं. यह पूरी तरह से अश्वेत इकाई थी, जो प्रशांत के विभिन्न द्वीपों में सेवाएं देती है. साल 2013 में उन्होंने कहा था कि वह लंबे जीवन का श्रेय भगवान को देते हैं और उन्होंने कोई दवा नहीं ली और उसकी मर्जी से उन्होंने जीवन का आनंद लिया. मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा था कि उन्हें युद्ध के बारे में सोचना या बात करना पसंद नहीं. उन्होंने बातचीत में कहा था कि वह सारा कुछ भूल चुके हैं.

असम की चाय और खूबसूरती ने लूटा विवियन रिचर्ड्स का दिल

ओवरटन को ‘अमेरिकी आइकॉन व टेक्सास का लीजेंड बताया
ओवरटन जब 107 साल के थे तब उन्होंने कहा था कि मैं अपनी कॉफी में व्हिस्की पीता था. कभी-कभी मैं इसे बगैर मिलाए पीता था. ओवरटन लंबे समय तक ऑस्टिन, टेक्सास में रहे. वह रिचर्ड ओवरटन एवेन्यू स्ट्रीट में रहते थे. इस सड़क का नाम उनके नाम पर रखा गया था. टेक्सास के गवर्नर ग्रेग एबोट ने गुरुवार को एक बयान में ओवरटन को ‘अमेरिकी आइकॉन व टेक्सास का लीजेंड बताया.’