किसी भी पब्लिक प्‍लेस पर चले जाइए, सेल्‍फी लेते लोग हर जगह नजर आ जाते हैं. सेल्‍फी की होड़ ऐसी है कि लोग घूमने-फिरने का आनंद नहीं लेते, बल्कि सेल्‍फी लेने में ही लगे रहते हैं.

Bikini Climber के नाम से मशहूर Gigi Wu की 35 साल में मौत, ऐसे लेती थीं Selfies

पर सेल्‍फी लेने के इस चस्‍के का सेहत पर क्‍या असर होता है. एक ताजा अध्ययन में इस पर प्रकाश डाला गया है. इसमें कहा गया है कि सेल्फी देखने के बाद लोग कॉस्मेटिक सर्जरी कराने के लिए प्रेरित होते हैं.

कैसे होता है असर
इस अध्ययन में कहा गया है कि सेल्फी लेने से मनोवैज्ञानिक स्‍तर पर कई बदलाव होते हैं. अगर सेल्फी अच्‍छी ना आए या बार-बार कोशिश के बावजूद परफेक्‍ट न हो तो सेल्‍फी लेने वाले परेशान हो जाते हैं. उनका आत्मविश्वास कम हो जाता है और वे शारीरिक आकर्षण में भी कमी महसूस करते हैं.

सेल्फी लेने वाले कई लोगों में रूप-रंग को लेकर हीन भावना बढ़ जाती है. वे अपने रूप-रंग और चेहरे में बदलाव के लिए कॉस्मेटिक सर्जरी कराने के लिए प्रेरित होते हैं.

Fitness: शिल्पा शेट्टी ने हवा में किया Aerial yoga, बेहद मुश्किल था उनके लिए ये टास्‍क, देखें Video

कैसे किया गया अध्‍ययन
अध्‍ययन एस्थेटिक क्लीनिक्स की ओर से किया गया. इसके तहत 300 लोगों को शामिल किया गया था. ये सभी लोग कॉस्मेटिक सर्जरी कराने के लिए कोलकाता, दिल्ली, मुंबई और हैदराबाद स्थित एस्थेटिक क्लिनिक गए थे.

अध्ययन में पाया गया कि किसी फिल्टर का उपयोग किए बिना सेल्फी पोस्ट करने वाले लोगों में चिंता बढ़ने और आत्मविश्वास में कमी देखी जाती है. जो लोग सेल्फी में सुधार किए बिना या सुधार करके भी सेल्फी पोस्ट करते हैं, उनमें शारीरिक आकर्षण को लेकर उनकी भावना में उल्लेखनीय कमी देखी गई है.

आम तौर पर सेल्फी लेने और उन्हें सोशल मीडिया पर पोस्ट करने के परिणाम स्वरूप मूड में गिरावट होती है और खुद की छवि को लेकर व्यक्ति की भावना में कमी आती है. जो लोग सोशल मीडिया पर अपनी सेल्फी को पोस्ट करने से पहले दोबारा सेल्फी लेते हैं या उन्हें सुधार करते हैं वे भी मूड में कमी एवं एंग्जाइटी महसूस करते हैं.

यह महत्वपूर्ण है कि सेल्फी पोस्ट करने वाले अधिकांश लोग अपने लुक को बदलने के लिए कॉस्मेटिक सर्जरी और प्रक्रियाओं से गुजरना चाहते हैं.

(एजेंसी से इनपुट)

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.