Covid-19 symptoms Low oxygen level: भारत कोरोना की दूसरी लहर को झेल रहा है. रोज़ लाखों की संख्या में कोरोना के नए मामले सामने आ रहे है. देश में आक्सीजन की भारी कमी है जिससे कई लोगों की जान जा रही है. कोविड-19 (Covid-19) फेफड़ों पर असर डालता है जिसके कारण गंभीर मामलों में शरीर में ऑक्सीजन लेबल गिर जाता है. मरीजों की बढ़ती संख्या के कारण देश में ऑक्सीजन सिलेंडर की भारी कमी देखी जा रही है. कई मरीजों को सांस लेने में दिक्कत हो रही है जिससे उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती  कराने की जरूरत पड़ रही है.Also Read - गर्म पानी पीने के फायदे के बारे में जानकर चौक जाएंगे आप, वीडियो में जानें पूरी डिटेल्स | Watch Video

ऑक्सीजन सैचुरेशन क्या होता है?
आज कल सबसे ज्यादा एक शब्द का इस्तेमाल होता है वो है ऑक्सीजन सैचुरेशन. फेफड़े हमारे शरीर में ऑक्सीजन लेकर खून में ऑक्सिजनेटेड हीमोग्लोबिन बनाते है. जब शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा कम हो जाती है तब ऑक्सिजनेटेड हीमोग्लोबिन भी कम हो जाता है. अगर आपके शरीर में ऑक्सीजन की रीडिंग 94 से ऊपर रहे तो उसे हेल्दी माना जाता है. कई बार कोविड-19 की गंभीर अवस्था में ऑक्सीजन की मात्रा 94 से नीचे आ जाती है जिसकी वजह से शरीर में ऑक्सिजनेटेड खून की सप्लाई में प्रभाव पड़ रहा है. Also Read - Khali Pet Pani Pina Chahiye Ya Nahi: सुबह खाली पेट पानी पीना चाहिये या नहीं, जानें सेहत के लिए यह फायदेमंद या नुकसानदेह?

अगर आपकें शरीर में SpO2 लेवल 94 से 100 के बीच में है तो इसका मतलब है कि आप हेल्दी है मगर अगर रीडिंग 94 से नीचे है तो यह हाइपोक्सेमिया की समस्या का रूप ले सकता है. आक्सीजन की मात्रा 90 से नीचें हो जाए तब आपकों मेडिकल हेल्प की जरूरत है. Also Read - White Brinjal Benefits: सेहत के लिए बेहद लाभकारी है सफेद बैंगन, डायबिटीज से लेकर कोलेस्ट्रोल तक इन बीमारियों में फायदेमंद

शरीर में ऑक्सीजन लेवल कम होने के लक्षण यह है-

सांस लेने में कठनाई
अगर आपके शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा कम हो रही है तो आपको सांस लेने तकलीफ हो सकती है. कुछ मरीजों में देखा गया है कि ऑक्सीजन लेवल में उतार-चढ़ाव और सांस लेने में कठिनाई रेस्पिरेट्री इनफेक्शन और शरीर के अंगों पर प्रभाव डालता है. इससे एक्यूट रेस्पिरेट्री डिस्ट्रेस सिंड्रोम भी हो सकता है जो खतरे की निशानी भी हो सकती है.

होंठो का नीला होना
शरीर में ऑक्सीजन की कमी होने पर होंठ नीले होने लगते है और साथ ही स्कीन की रंगत भी उड़ जाती है. जब शरीर में भरपूर मात्रा में ऑक्सीजन रहता है तो इंसान के होंठ गुलाबी रहते है.

चेस्ट या लंग्स में दर्द होना
कई पेशेंट में यह देखा गया है कि उनके शरीर में ऑक्सीजन लेवल गिरने पर सीने में दर्द की समस्या भी होती है. इसके साथ ही खांसी, बेचैनी और सर दर्द जैसे लक्षण भी दिखाई देने लगते है.

उलझन की समस्या होना
कई लोगों मे यह देखा गया है कि शरीर में जब ऑक्सीजन लेवल कम होता है तो उन्हें उलझन होने लगती है. ऐसा इस कारण होता है क्योंकि दिमाग तक ब्लड फ्लो कम हो जाता है जिससे कई न्यूरोलॉजिकल फंक्शनिंग (Neurological Functioning) पर प्रभाव पड़ने लगता है. ऐसे में लोगों को जगने में तथा उठने में भी दिक्कतें हो सकती हैं. अगर आपकों भी ऐसी परेशानी हो रही है तो तुरंत मेडिकल हेल्प लें.

ऑक्सीजन लेवल कम होने पर करें यह उपाय
अगर आपके शरीर में भी ऑक्सीजन लेवल 91 हो जाए तो आपकों सावधान हो जाने की जरुरत है. सबसे पहले आप घर पर ही रहकर प्रोन ब्रीदिंग (Prone Breathing ) से अपने ऑक्सीजन लेवल को सामान्य करने की कोशिश करें. अगर इससे भी आराम नहीं मिल रहा है तो तुरंत मेडिकल मदद लें. जिन लोगों को पहले से लंग कॉम्प्लिकेशन, रेस्पिरेट्री प्रॉब्लम है वो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें. बूढ़े लोग भी मेडिकल हेल्प लें.