देशभर में अब 50 करोड़ भारतीयों के पास स्मार्टफोन है. 2018 से प्राथमिक रूप से 15 प्रतिशत की वृद्धि के साथ श्याओमी और रियलमी जैसे ब्रांड के चलते यूजर्स की संख्या में इजाफा हुआ है. Also Read - पहली जनवरी 2020 से इन स्मार्टफोन में नहीं चलेगा WhatsApp, कंपनी ने बताई ये वजह

एक नई रिपोर्ट में कहा गया कि इस प्रकार के ब्रांड्स नए यूजर्स को पारिस्थितिकी तंत्र (ईकोसिस्टम) में लाने में कामयाब हुए हैं और यह सिलसिला जारी है. Also Read - Flipkart Flipstart Days Sale का आज आखिरी दिन, मिल रहा है 80% तक का डिस्काउंट

मार्केट रिसर्च फर्म टेकआर्क के अनुसार, 2019 दिसंबर तक भारत में स्मार्टफोन यूजर्स की संख्या 50.22 करोड़ है, इसका मतलब है कि 77 प्रतिशत से अधिक लोग अब भारत में स्मार्टफोन के माध्यम से वायरलेस ब्रॉडबैंड एक्सेस कर रहे हैं. Also Read - Flipkart Flipstart Days Sale शुरू, 80% तक के डिस्काउंट पर मिल रहे हैं कई प्रॉडक्ट्स

वर्ष 2019 में 34 प्रतिशत के साथ सैमसंग ने स्मार्टफोन स्थापित आधार का नेतृत्व किया, इसके बाद श्याओमी ने 20 प्रतिशत, वीवो ने 11 प्रतिशत और ओप्पो ने क्रमश: 9 प्रतिशत की बढ़त हासिल की.

टेकआर्क के फाउंडर एंड चीफ एनालिस्ट ने एक बयान में कहा, “फीचर फोन से स्मार्टफोन में कुछ वर्षो के लिए एक स्लो माइग्रेशन रेट के बाद, यह देखना अच्छा है कि बाजार ने फिर से विस्तार करना शुरू कर दिया है.”

हालांकि, एंट्री सेगमेंट में स्मार्टफोन की कीमत पांच हजार से शुरू होती है लेकिन फिर भी यूजर्स 5,001 से 10,000 के बीच का फोन लेना पसंद करते हैं.

2019 में यूजर बेस के परसेंटेज नेट एडिशन टर्म के ब्रांड की बात की जाए तो इनमें रियलमी, वीवो और वन प्लस शीर्ष पर रहे.
(एजेंसी से इनपुट)

लाइफस्‍टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.