सोची: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रूस के शहर सोची पहुंच चुके हैं. यहां वे राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ अनौपचारिक शिखर वार्ता के लिए गए हैं. पर हम आपको बता रहे हैं सोची शहर के बारे में. Also Read - Check PMAYG 2021 Beneficiary List: प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 2691 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता जारी करेंगे पीएम मोदी, जानिए कैसे लें इस योजना का लाभ

सोची रूस का तटीय शहर है. ये ब्‍लैक सी के किनारे बसा है. सोची, रूस और जॉर्जिया के बीच बॉडर की तरह दिखता है. 2010 के आंकड़ों के मुताबिक इस शहर की कुल आबादी 3,43,334 थी. कम आबादी और लंबा शहर बेहद खूबसूरत है. सोची को रूस की ‘रिसॉर्ट सिटी’ भी कहा जाता है. Also Read - राहुल गांधी ने कृषि कानूनों के खिलाफ 'खेती का खून' नाम की बुकलेट जारी की, कहा- मैं PM Modi और बीजेपी से नहीं डरता

sohi Also Read - PM Narendra Modi Congratulate to Team India: टीम इंडिया की ऑस्ट्रेलिया में ऐतिहासिक जीत, PM मोदी ने कहा- बहुत ख़ुशी हुई

ये शहर, रूस के सबसे खूबसूरत शहरों में से एक माना जाता है. यहां हर ओर हरियाली है. कई बीच हैं, जो गर्मी के मौसम में लोगों से भरे रहते हैं. यहां के पहाड़ों पर लोग स्‍कीइंग करते हैं. यहां काफी पुराने रिसॉर्ट हैं.

सोची जाने के लिए मई के महीने को काफी अच्‍छा माना जाता है. इस समय यहां का तापमान काफी अच्‍छा होता है. ना सर्दी होती और ना ही गर्मी.  यहां की एयर क्‍वालिटी भी बहुत अच्‍छी है. यहां 5 लाख एकड़ जंगल हैं. काफी सारे खूबसूरत पार्क हैं.

गर्मियों के समय में बड़ी संख्‍या में लोग सोची जाते हैं. यहां ज्‍यादातर टूरिस्‍ट घूमते दिखते हैं. यहां के खास जगहों पर स्‍काई रिसॉर्ट, सोच्चि पार्क, एक्‍वापार्क एंफीबियस, बायोस्‍फेयर रिजर्व, पाक्र रिवेरा, सोच्चि ऑडिटोरियम प्रमुख हैं.

Narendra Modi reaches Russia's Sochi for an summit with President Vladimir Putin

क्‍यों गए हैं मोदी
खबरों के मुताबिक, पीएम मोदी की अनौपचारिक वार्ता का लक्ष्य, दोनों देशों के बीच आपसी दोस्ती एवं विश्वास के बूते महत्वपूर्ण वैश्विक एवं क्षेत्रीय मुद्दों पर साझा राय बनाना है.

बता दें कि मोदी ने कल ट्वीट किया था, ‘रूस के मित्रवत लोगों को नमस्कार! मैं सोची के कल के अपने दौरे और राष्ट्रपति पुतिन के साथ अपनी मुलाकात के प्रति आशान्वित हूं. उनसे मिलना मेरे लिये हमेशा सुखदायी रहा है’. उन्होंने लिखा, ‘मुझे विश्वास है कि राष्ट्रपति पुतिन के साथ बातचीत भारत और रूस के बीच विशेष एवं विशेषाधिकार युक्त रणनीतिक भागीदारी और अधिक मजबूत होगी’.