अगर आप बहुत ज्‍यादा तनाव लेते हैं तो ये खबर आपको पढ़नी चाहिए. एक नए शोध में पता चला कि जीवन की उम्र पर तनाव का काफी असर होता है. यही नहीं, तनाव के कारण किसी व्‍यक्ति की जीवन क्‍वालिटी भी प्रभावित होती है. Also Read - हर 7वां भारतीय मानसिक विकार से ग्रस्त, हैरान करने वाले आंकड़े

इस शोध के नतीजों को BMJ Open में प्रकाशित किया गया है. शोध में 25 से 74 साल तक के लोगों को शामिल किया गया था. इन सभी को प्रश्‍नावली दी गई थी. जिनके उत्‍तरों के आधार पर शोध के नतीजों का आंकलन किया गया. Also Read - जामिया विश्विद्यालय में तनाव की वजह से खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे छात्र, 2 हजार लोगों ने खाली किए हॉस्टल

नतीजों में शोधकर्ताओं ने किई रिस्‍क फैक्‍टर्स जैस लाइफस्‍टाइल आदि को प्रमुख माना है. इनके कारण पुरुष और महिला की आयु पर काफी असर होता है. Also Read - चाय मना करने वालों को एक बार ये खबर पढ़ा दीजिए, हो जाएंगे चुप!

फिनलैंड के नेशनल इंस्‍टीट्यूट फॉर हेल्‍थ एंड वेलफेयर से प्रमुख शोधकर्ता टॉमी हेरकानेन ने कहा, ‘इससे पहले उम्र को लेकर हम केवल अन्‍य कारणों जैसे उम्र, सेक्‍स, शिक्षा आदि को प्रमुख मानते थे. पर इस शोध में तनाव एक प्रमुख कारण के तौर पर उभरा है. अब हम इस पर आगे और शोध करेंगे.’

शोध में पाया गया कि जब लाइफस्‍टाइल में बदलाव होता है, यानी तनाव के घटने या बढ़ने से जीवन से संबंधित अन्‍य रिस्‍क फैक्‍टर्स भी उसी अनुपात में बदलते हैं.

उन्‍होंने पाया कि एक 30 वर्षीय पुरुष में उम्र कम होने के प्रमुख कारणें में स्‍मोकिंग और डायबिटीज भी पाया गया.

– स्‍मोकिंग से 6.6 साल, वहीं डायबिटीज से करीब 6.5 साल औसतन उम्र कम होती है.

– अत्‍यधिक तनाव के कारण जीवन 2.8 वर्ष कम हो जाता है.

– व्‍यायाम ना करने से जीवन 2.4 वर्ष कम होता है.

– फलों और सब्जियों का अच्‍छे अनुपात में सेवन करने से जीवन 1.4 साल तक बढ़ सकता है.