हकलाने की परेशानी किसी को भी हो सकती है लेकिन इसे शुरूआती दौर में समझना जरुरी है. कई बार में हम ये सोच लेते हैं कि बच्चा छोटा है इसलिए ऐसा हो रहा है और आगे चलकर हमें और बच्चे दोनों को कई तरह की परेशानी का सामना करना पड़ता है. ऐसे में ध्यान दें कि अगर आपके बच्चे को किसी शब्द या फिर वाक्य को शुरु होने में परेशानी हो रही है तो ऐसे में आप तुंरत सतर्क हो जाएं. Also Read - हकलाने को लेकर प्रोफेसर ने उड़ाया स्टूडेंट का मजाक, ऋतिक ने कहा ये टीचर नहीं बददिमाग बंदर

हकलाने की समस्या बहुत बड़ी नहीं है आप चाहें तो उसपर ध्यान देकर इस समस्या से निजात पा सकते हैं. इसके लिए आपको अपने बच्चे की स्पीच पर ध्यान देना होगा ताकि आप उसकी चीजों को जल्द पकड़ लें क्योंकि अगर हकलाने की समस्या बड़ी उम्र तक रही तो वो उसके लिए तकलीफदेह साबित होगी. ऐसे में चलिए जानते हैं किन तरीकों की मदद से आप हकलाने की समस्या को दूर कर सकती हैं.

1. स्पीच थेरेपी का सहारा
आजकल आपको स्पीच थेरेपी कहीं भी आसानी से मिल जाएगा और इससे आपके बच्चे को भी हकलाने से छुटकारा मिल जाएगा. दरअसल स्पीच थेरेपी में बच्चों से उन्ही शब्दों और अक्षरों को बुलवाया जाता है जिसे बोलने में बच्चे को परेशानी हो ती है. ऐसे में अगर आप इसका अभ्यास अपने बच्चे को करवाएंगे तो इससे लाभ मिलेगा.

2. गुनगुना पानी
अगर आप चाहे तो गुनगुने गुनगुने ब्राह्मी तेल से सिर पर 30 से 40 मिनट तक मालिश करें, उसके बाद गुनगुने पानी से नहा लें. ऐसा करने से स्मरण शक्ति में सुधार होता है और अटककर और हकलाकर बोलने की समस्या से छुटकारा मिल जाता है.

3. ब्राह्मी किरुथम शहद का चूर्ण बनाएं
अगर आपको यह बीमारी है तो एक चम्मच सारस्वत चूर्ण और 1/2 चम्मच ब्राह्मी किरुथम शहद में मिला दें. वहीं उसके बाद इस मिश्रण को चावल के गोलों में मिलाकर मुंह में रखकर अच्छी तरह से चबा ले. ऐसा करने से हकलाहट में लाभ होगा, आप चाहे तो इसका सेवन नाश्ते के रूप में चटनी जैसे भी कर सकते .

4.बादाम भिगोकर खाएं
हकलाहट से निजात पाने के लिए 12 बादाम पूरी रात पानी में सोख कर रखें और सुबह उनके छिलके उतार कर पीस लें . इसे 30 ग्राम मक्खन के साथ सेवन करें लाभ होगा.

5. आंवला
आप आंवला खाकर भी इस बीमारी को दूर कर सकते हैं. आप सुबह सवेरे एक चम्मच सूखे आवंले का पाउडर और एक चम्मच देसी घी का सेवन अपने बच्चे को कराएं इससे उसे बहुत हद कर राहत मिलेगी.