Top Recommended Stories

पानी नहीं इनकी घूंट-घूंट में हैं बीमारियां, प्यास भले बुझा दें कैंसर भी बांट रही यह बोतलें

अगर आप भी प्लास्टिक की बोतल में रखा हुआ पानी पीते हैं तो सावधान! क्योंकि जिस बोतल को आप बड़ी शान से मिनरल वाटर के नाम पर खरीदते हैं, वह असल में अपने अंदर कैंसर जैसी कई बीमारियां समेटे हुए है. डॉक्टरों का कहना है कि यह पानी हार्मोनल इम्बैलेंस का भी कारण बन सकता है.

Updated: April 25, 2022 3:41 PM IST

By Digpal Singh

पानी नहीं इनकी घूंट-घूंट में हैं बीमारियां, प्यास भले बुझा दें कैंसर भी बांट रही यह बोतलें

गर्मी प्रचंड है. लू (Heat Wave) के थपेड़े किसी को भी चैन की सांस नहीं लेने दे रहे. खासतौर पर उन गर्मियों में शरीर में पानी की कमी होने लगती है और प्यास लगने पर जैसे ही हमें पानी दिखता है, हम अपनी प्यास बुझा लेते हैं. प्यास में हम यह भी नहीं देखते कि यह पानी किस कंटेनर में रखा है. जी हां, कंटेनर का ध्यान रखना बहुत जरूरी है. एक रिपोर्ट के अनुसार हमें बड़ी-बड़ी बोतलों (Plastic Water Bottles) में आने वाला पानी पीने से बचना चाहिए, क्योंकि यह बहुत खतरनाक हो सकता है. हिंदी दैनिक नवभारत टाइम्स में छपी एक खबर के अनुसार यह बड़ी-बड़ी बोतलें काफी समय यहां तक कि कई दिनों तक तेज धूप में रहती हैं. हालांकि, 1-2 लीटर की बोतलें भी अगर लंबे समय तक धूप में रहती हैं तो, खतरनाक हो सकती हैं. आइए जानते हैं क्या है इसके पीछे का विज्ञान…

Also Read:

शोधकर्ताओं का सुझाव है कि हमें ऐसी प्लास्टिक बोतल का पानी नहीं पीना चाहिए, जो लंबे समय तक धूम में पड़ी हुई हो. उदाहरण के लिए आपकी कार पूरी दिन तेज धूप में तपती रही और उसमें पानी की बोतल रखी हो तो उसका पानी आपके स्वास्थ्य के लिए बेहद खतरनाक हो सकता है. क्योंकि धूप के कारण प्लास्टिक के कैमिकल पानी में घुल सकते हैं.

अगर आप गाड़ी में रखी उसी प्लास्टिक की बोतल का पानी पीने जा रहे हैं तो एक बार फिर से सोच लें, क्योंकि यह लंबे समय तक धूप और गर्मी में रही है. तेज तापमान और लंबे समय तक धूप में रहने के कारण प्लास्टिक में मौजूद कैमिकल को पानी में घुलने का समय भी ज्यादा मिल जाता है.

आपकी प्यास बुझाकर बीमार कर देगा ऐसा पानी

नवभारत टाइम्स ने इस संबंध में डॉ. संदीप गुलाटी से बात की. उन्होंने बताया कि अगर आप प्लास्टिक की बोतल से पानी पीते हैं तो माइक्रो प्लास्टिक के कारण आपको पेट से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं. रिपोर्ट के अनुसार इससे हार्मोनल इम्बैलेंस भी हो सकता है, जिसके कारण PCOS, गर्भाशय से जुड़ी समस्याएं, ब्रेस्ट कैंसर, कोलन कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और कई अन्य तरह की सस्याएं हो सकती हैं.

प्लास्टिक की बोतल में पानी पीने के नुकसान

  1. सूर्य के सीधे सम्पर्क में आने के कारण प्लास्टिक से टॉक्सिन रिलीज होता है, जिसे डायोक्सिन कहते हैं. जिसे पीने पर ब्रेस्ट कैंसर (Breast Cancer) का खतरना बढ़ जाता है.
  2. बाइफिनायल-ए एक ऐसा कैमिकल है जो एस्ट्रोजन की नकल करता है, यह डायबिटीज (Diabetes), मोटापा (Obesity), बांझपन (Fertility Problems), व्यवहार संबंधी समस्याएं और लड़कियों में जल्द यौवन (Early puberty in girls) का कारण बन सकता है. बेहतर तो यही होगा कि प्लास्टिक की बोतल में न तो पानी को स्टोर करके रखें और न ही उसका सेवन करें.
  3. जब भी हम प्लास्टिक की बोतल में पानी पीते हैं तो यह हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immune System) को बुरी तरह से प्रभावित करता है. प्लास्टिक की बोतल से निकलने वाला कैमिकल हजम नहीं होता और यह हमारे शरीर की नैसर्गिक रोग प्रतिरोधक क्षमता को प्रभावित करता है.
  4. प्लास्टिक में फालेट नाम के कैमिकल की मौजूदगी होती है. प्लास्टिक की बोतल में पानी पीने से लिवर कैंसर का खतरा बढ़ जाता है और इसके कारण पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या (Sperm Count) भी गिर सकता है, जिसका सीधा असर उनकी प्रजनन क्षमता पर पड़ता है.
  5. न्यूयॉर्क के फ्रेडोनियों में स्टेट यूनिवर्सिटी की एक हालिया रिसर्च में सामने आया है कि बोतल के पानी में माइक्रोप्लास्टिक की मात्रा काफी ज्यादा होती है. खासतौर पर मशहूर ब्रांड की पानी की बोतलों में. बता दें कि माइक्रोप्लास्टिक प्लास्टिक के उन छोटे-छोटे टुकड़ों को कहा जाता है, जो आसानी से दिखते नहीं हैं और वह 5 मिलिमीटर या उससे छोटे होते हैं.
  6. रिसर्च में 93 फीसद पानी की बोतलों में माइक्रोप्लास्टिक पाया गया. हालांकि, विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार माइक्रोप्लास्टिक से स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव नहीं पड़ता, लेकिन यह चिंता का विषय तो है ही.

पानी को बोतल खरीदने से पहले इन बातों का रखें ध्यान

  1. अगर पानी बोतलें अगर लंबे समय तक धूप में रखी हों तो उन्हें न खरीदें.
  2. ध्यान रखें कि प्लास्टिक की बोतल छांव में रखी हों और उस जगह का अधिकतम तापमान 25 डिग्री सेल्सियस हो
  3. जब भी बाहर जाएं तो अपने साथ अपनी पानी की बोतल लेकर जाएं और अगर यह कांच या धातु की हो तो अच्छा है
  4. प्लास्टिक की बोतल न खरीदें
  5. याद रखें कि प्लास्टिक बोतल बनने के दौरान कार्बन फुटप्रिंट भी काफी होता है.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें लाइफस्टाइल की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date: April 25, 2022 3:17 PM IST

Updated Date: April 25, 2022 3:41 PM IST