नई दिल्ली: नागकेसर एक सदाबहार वृक्ष होता है जिसके सूखे फूल औषधी, मसाले और रंग बनाने के काम में आते हैं. नागकेसर के रंग से रेशम को रंगा जाता है. नागकेसर को और भी कई नामों से जाना जाता है और इसे नागचम्पा, भुजंगाख्य, हेम और नागपुष्प भी कहा जाता है. नागकेसर की मदद से कई बीमारियों को ठीक किया जाता है. इसके सेवन से कई तरह की समस्याओं से भी निजात मिलता है आइए जानते हैं कैसे-

स्किन के लिए लाभदायक- नागकेसर के तेल को अगर रोजाना चेहरे पर लगाया जाए तो इससे चेहरे पर निखार आता है और साथ ही चेहरे की नमी भी बरकरार रहती है. अगर आप ग्लोइंग और सॉफ्ट त्वचा चाहती हैं तो इसे रोजाना इस्तेमाल करें.

खांसी को करें खत्म- नागकेसर के इस्तेमाल से खांसी की समस्या से भी आराम मिलता है. खांसी होने पर नागकेसर का काढ़ा पीने से खांसी पलभर में ठीक हो सकती है. काढ़ा बनाने के लिए इसक जड़ और छाल का इस्तेमाल करना चाहिए.

निसंतान की परेशानी को करें दूर- कई महिलाओं को बच्चे होने में खई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है. नागकेसर की मदद से गर्भ ठहरने में काफी मदद मिलती है. नागकेसर के साथ सुपारी के चूर्ण को मिलाकर खाने से गर्भ आसानी से ठहर जाता है. इसे दूध के साथ पीने बांझपन ले छुटकारा मिल सकता है.

पीरियड्स के दर्द को करे ठीक- कई महिलाओं और लड़कियों को पीरियड्स के दौरान पेट में दर्द की समस्या होती है. इसके लिए नागकेसर में सफेद चन्दन और पठानी लोध्र का पाउडर मिलाकर पीएं. इससे पीरियड्स के दौरान होने वाला दर्द ठीक हो जाता है.

पैरों में जलन को करे कम- कई लोगों को पैरों में जलन की समस्या होती है. पैरों में जलन की समस्या होने पर आप नागकेसर के पत्तों को अच्छे से पीसकर लेप तैयार कर लें और इस लेप में चंदन का पाउडर मिला दें. फिर इस लेप को पैरों पर लगायें, ये लैप लगाने से जलन दूर हो जाएगी.