गुवाहाटी: दिग्गज क्रिकेटर विवियन रिचर्ड्स ने गुरुवार को कहा कि वह असम की चाय अपने घर लेकर जाएंगे क्योंकि वह इसे सबसे अच्छी चाय में से एक मानते हैं. वेस्टइंडीज के पूर्व कप्तान ने असम के मौसम की भी तारीफ की और कहा कि भारत और एंटीगुआ में कई बातें समान हैं. Also Read - Lockdown Extended: गुवाहाटी में बढ़ाई गई लॉकडाउन की अवधि, अब 19 जुलाई तक चलेगी तालाबंदी

Also Read - असम में तेंदुए से हैवानियत, पहले पीट कर मार डाला, दांत निकाले, फिर शोर मचाते हुए शव को घुमाया

रिचर्ड्स ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘गुवाहाटी आना एक खूबसूरत अनुभव रहा. जब मैं कोलकाता से यहां आया तो हवा बेहद स्वच्छ थी. मुझे इस जगह की खूबसूरती पसंद आई.’’ उन्होंने कहा, ‘‘आपकी चाय खास है. जब भी मैं यहां आता हूं, मैं इसे लेता हूं. यह दुनिया भर में प्रख्यात है. जब भी मैं कहीं जाता हूं, यह जानने की कोशिश करता हूं कि वहां की खासियत क्या है. यहां चाय खास है.’’ उन्होंने बताया कि वह अपने साथ चाय लेकर जा रहे हैं क्योंकि ‘‘असम की चाय दुनिया की श्रेष्ठ चायों में से एक है.’’ Also Read - सावधान: हवाई यात्रा में रहें सतर्क, स्पाइसजेट की अहमदाबाद से गुवाहाटी की उड़ान में दो यात्री कोरोना वायरस संक्रमित

अब नहीं जाएगी आंखों की रोशनी, वैज्ञानिकों ने तैयार किया ऐसा अजूबा ‘आई-ड्रॉप’

अपनी आतिशी बल्लेबाजी के लिए मशहूर रिचर्ड्स ने वेस्टइंडीज के लिए 121 टेस्ट और 187 वनडे मैच खेले. टेस्ट मैचों में उन्होंने 50.23 की औसत से 8540 रन बनाए तो वनडे में 47 की औसत से 6721 रन उनके नाम दर्ज हैं. विश्व क्रिकेट में कई खिलाड़ियों की आक्रामकता मशहूर है, लेकिन रिचर्ड्स इन सबसे अलग थे. च्युइंग गम चबाते हुए वे बल्लेबाजी के लिए आते और विपक्षी गेंदबाजों पर कहर बनकर टूट पड़ते.

कोहली की आक्रामकता के मुरीद हैं विव रिचर्ड्स, कहा- टीम इंडिया ऑस्ट्रेलिया में जीत की हकदार

उनकी बैटिंग का स्टाइल भी अलहदा था. उनके बारे में माइक सेल्वी ने लिखा है कि फ्रंट फुट पर रिचर्ड्स बेहद मजबूत थे. बैटिंग के दौरान वे अपने बाएं पैर को ऑफ स्टंप के बाहर लेकर जाते ताकि किसी भी गेंद को मिडविकेट पर फ्लिक कर सकें. लेकिन यह उनकी कमजोरी नहीं थी. वे किसी भी गेंद पर कवर ड्राइव भी उतनी ही बेहतरीन लगाते थे.