नई दिल्ली: वजन कम करना एक काफी लंबा प्रोसेस है. वढ़ाना जितना आसान है वजन कमकरना उतना ही मुश्किल काम है. वजन कम करने के लिए आपको कई चीजें करनी होती हैं जिनमें जिम, डाइटिंग, सही खाने का चुनाव करना महत्वपूर्ण होता है. वजन कम करने के लिए लोग अक्सर सभी चीजों को फॉलो करते हैं लेकिन एक अहम चीज करना भूल जाते हैं. जी हां, वजन करने के लिए जितना जरूरी एक्सरसाइज करना और सही खाना है उतना ही जरूरी है सही समय पर भोजन करना. अगर आप अपना वजन कम करना चाहते हैं तो उसके लिए जरूरी है कि आप खाना सही समय पर खाएं. दिनभर में किसी भी समय भोजन करने से आपका वजन बढ़ता है. तो अगर आप भी अपना वजन सच में कम करना चाहते हैं तो आपको इस बात का पता होना काफी जरूरी है कि भोजन करने का कौन सा समय सही होता है और किस समय पर आपको भोजन नहीं करना चाहिए. आइए जानते हैं.Also Read - How to Maintain Weight After Weight Loss: कैसे करे बॉडी वैट को मेंटेन? जानिए सेलिब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट मनीषा चोपड़ा से | Watch Video

अगर आप सही समय पर खाना खाने का यह नियम फॉलो करेंगे तो ना सिर्फ आपका वजन कम होगा बल्कि आप वो सभी चीजें खा सकते हैं जो आपको सख्त मना हैं. जी हां, वजन कम करने के लिए आपको अपना फेवरेट खाना छोड़ने की कोई जरूरत नहीं है. डाइटिंग की इस विधि को इंटरमिटेंट फास्टिंग कहा जाता है. इसका मूल सिद्धांत एक निर्धारित अवधि के लिए कैलोरी का सेवन बंद करना है. Also Read - Weight Loss Magical Drink: वजन कम करने के लिए कॉफी में डालें ये एक चीज, महीनेभर में कम हो सकता है वेट

क्या है इंटरमिटेंट फास्टिंग Also Read - Oily Food Tips: अपना पसंदीदा ऑयली फूड खाने के बाद बस कर लें ये छोटा सा काम, वजन बढ़ने की टेंशन से रहेंगे कोसों दूर

इंटरमिटेंट फास्टिंग में, आप खाने और उपवास की अवधि के बीच उतार-चढ़ाव करते हैं. इसका मतलब हो सकता है कि आठ घंटे के दौरान भोजन करना और दिन के अन्य 16 घंटों के लिए उपवास करना, सप्ताह में एक दिन उपवास करना या उपवास अवधि में 500 कैलोरी तक भोजन का सेवन सीमित करना. या आप यह भी कह सकते है कि आपका शरीर जमा ग्लूकोज का उपयोग करता है और ऊर्जा प्राप्त करने के लिए वसा को तोड़ना शुरू कर देता है.

आप अपने अंतिम भोजन के 8-10 घंटे उपवास में प्रवेश करते हैं. 12 से 14 घंटे के बाद आपका शरीर ऊर्जा प्राप्त करने के लिए वसा को तोड़ना शुरू कर देता है क्योंकि शरीर में मौजूद ग्लूकोज कम हो जाता है. यह सब बदले में धीरे-धीरे वसा और वजन घटाने का कारण बनता है.

इंटरमिटेंट फास्टिंग के तरीके

अगर आप इंटरमिटेंट फास्टिंग को फॉलो करना चाहते हैं तो उसके लिए जरूरी है कि आप अपने दिन या हफ्ते को फास्टिंग और खान के समय में विभाजित करें. इंटरमिटेंट फास्टिंग को फॉलो करने के 5 तरीके हैं.

– पहला तरीका तो यह है कि आप एक दिन पूरा फास्ट रखें और दूसरे दिन खाना खाएं. जिस दिन आपका फास्ट हो उस दिन ध्यान की आप कम से कम खाना खाएं और ज्यादा से ज्यादा पानी पीएं.

– दूसरा तरीका है कि आप एक दिन पूरा फास्ट रखें और दूसरेस दिन खाना खाएं. फास्ट वाले दिन में आप सिर्फ पानी और हर्बल टी पीएं. आपकी बॉडी में जीरो कैलोरी होनी चाहिए.

– तीसरे तरीके में आपके समय के हिसाब से खाना खाना जरूरी है. इस दौरान आप केवल दिन से 6 से 8 घंटे के भीतर खाना खाएं, और बाकी के पूरे दिन फास्ट रखें. ऐसा करने से व्यक्ति का मेटाबॉलिजम में सुधार होता है. और वजन भी अच्छे से कम होता है.

– चौथा तरीका यह है कि आप हफ्ते के 5 दिन खाना खाएं और 2 दिन फास्ट रखें. आपको फास्टिंग के दौरान अपने कैलोरी सेवन को 600 कैलोरी तक सीमित रखना चाहिए. बाकी के दिन आप अपनी इच्छा का कुथ भी खा सकते हैं.

– पांचवा तरीका काफी आसान हैं. इसके लिए आपको हफ्ते में एक दिन या महीने में एक दिन फास्टिंग करना चाहिए.