आजकल लेटेस्‍ट ट्रेंड है हर्बल हुक्‍का (Herbal Hookah). यूथ इसे खूब पसंद कर रहा है. कई युवा तो ये भी कहते हैं कि इस हुक्‍के से कोई नुकसान ही नहीं होता. पर सच क्‍या है, हम बताते हैं.

क्‍या है Herbal Hookah
बड़े शहरों में हुक्का बार होना आम बात हो गयी है. Herbal Hookah बाजार में कई तरह के फ्लेवर में मौजूद है. फ्लेवर के कारण यह अपनी ओर किशोरों और युवाओं को आकर्षित करता है. कुछ लोगो इसके पीछे यह भी तर्क देते हैं कि इसमें तंबाकू नहीं होता है, इसलिए यह कम नुकसान पहुंचाता है. लेकिन यह बात पूरी तरह से सही नहीं है.

हर्बल हुक्‍के की सच्‍चाई
डॉक्टर और हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार, हर्बल हुक्के (Herbal Hookah) ऐसे हैं, जिनमें सिगरेट या अन्य तंबाकू वाले धूम्रपान से कम खतरानाक नहीं हैं. डॉक्टर के अनुसार इसमें तंबाकू भले ही नहीं होता है लेकिन इसमें शीशा मौजूद होता है. इसके अलावा इसमें कई अन्य तरह के रसायन भी मौजूद होती हैं. जो सेहत के लिए तंबाकू से भी ज्यादा खतरनाक हो सकते हैं.

शीशा और रसायन खतरनाक
हर्बल हुक्का में तंबाकू न होने के बावजूद भी इसमें शीशे की मात्रा बहुत होती है. शीशा जो कश के साथ अंदर जाता है उसमें 4 हजार से ज्यादा रसायन होते हैं.

हुक्का पीने से जो शीशा फेफड़ों में जाता है उसमें 40 से अधिक रसायन ऐसे होते हैं जो कैंसर जैसी बीमारी के जिम्मेदार होते हैं. हर्बल हुक्का फ्लेवर जो बाजार में उपलब्ध हैं, उनसे अस्थमा, लंग्स कैंसर और हार्ट डिजीज होने की संभावना बहुत अधिक होती है.

हर्बल हुक्के के सेवन से दिमाग पर भी बुरा असर पड़ता है. डॉक्टर मानते हैं कि फ्लेवर वाले हुक्के से भूलने की बीमारी, अल्जाइमर, डिप्रेशन और तनाव का खतरा भी बढ़ जाता है.

फ्लेवर हुक्का
हर्बल हुक्का के नाम पर बाजार में कई तरह के फ्लेवर में हुक्का मौजूद है. गुलाब, शहद, आम, स्ट्राबेरी, तरबूज, पुदीना, चेरी, नारंगी, सेब, चाकलेट, कॉफी और अंगूर वाले फ्लेवर सबसे ज्यादा पसंद किये जाते हैं.

लेकिन इन फ्लेवरों की भी एक अलग कहानी है. इनमें कोई भी फ्लेवर फलों का नहीं होता है. इसमें भी रसायनों का ही प्रयोग किया जाता है. जो सेहत के लिए खतरनाक होता है.

हर्बल हुक्के में खतरनाक रसायन
हाइड्रोजन साइनायड, टोल्यूडिन, युरेथैन, टल्यूइनस, आर्सेनिक, डाय बैंजो क्रीडीन, फिनोल, ब्यूटेन, पोलोनियम, एसीटोन, अमोनिया, नैफ्थेलैमिन, मेथोनॉल, पाइरीन, डाई मैथिल, नाइट्रो सैमीन, नफ्थैलीन, केडमियम, कार्बन डाइमोनोआक्साइड, बेंजोपाइरीन, वाइनिल क्लोराइड, डीडीटी जैसे खतरनाक रसायन पाये जाते हैं.

हुक्के से होने वाली बीमारी
– हुक्का पीने से कैंसर, हार्ट डिजीज, नपुंसकता और टीबी जैसी बीमारियों का खतरा रहता है.
– अमेरिका, दुबई, यूएई, जर्मनी आदि देशों में हुक्के पर बैन है.
– भारत में हर दूसरा पुरुष और हर सातवीं महिला धूम्रपान की शिकार है.
– स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक ज्यादातर बच्चे फिल्म स्टार या विज्ञापन देखकर धूम्रपान के शिकार होते हैं.