Swarna Bhasma (स्‍वर्ण भस्‍म) के बारे में आपने सुना होगा. ये एक आयुर्वेदिक दवा है. इसके कई फायदों के बारे में आयुर्वेद में बताया गया है.

Tips: शराब पीने के बाद चाय क्‍यों नहीं पीते लोग? जानें क्‍या होता है असर?

पर क्‍या आप जानते हैं कि इसे तैयार कैसे किया जाता है.

कैसे बनाई जाती है स्‍वर्ण भस्‍म
इसे शुद्ध सोने से तैयार किया जाता है. शुद्ध स्‍वर्ण पत्र को नींबू के रस में डुबोकर रखा जाता है. नींबू के रस में डालने से पहले स्‍वर्ण पत्र में रससिंधुरा (Mercurial compound) का पेस्‍ट लगाया जाता है. इस मिश्रण को एक हवा बंद कंटेनर में रखा जाता है. इसके बाद इस कंटेनर को 400 से 500 डिग्री सेंटी ग्रेट के तापमान वाले हवा बंद स्‍थान में 4 से 5 घंटों के लिए रखा जाता है.

क्‍या है कीमत
तमाम बड़ी कंपनियां इसे बनाती हैं. इस समय 500 ग्राम स्‍वर्ण भस्‍म की कीमत ढाई से तीन हजार के बीच चल रही है. ऑनलाइन भी इसे खरीदा जा सकता है.

जानें इसके फायदे
इसे शरीर के सभी अंगों को स्‍वस्‍थ्‍य रखने में असरदार माना गया है. ये शारीरिक क्रियाओं की क्षमता को बढ़ाता है. पुरानी से पुरानी बीमारी के उपचार के लिए इसका उपयोग किया जाता है. खासतौर से मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ाने के लिए इसका उपयोग किया जाता है.

स्‍वर्ण भस्‍म युक्‍त दवा स्‍मृति, एकाग्रता, समन्‍वय और मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य में सुधार करती है. स्‍वर्ण भस्‍म को अवसाद, मस्तिष्‍क की सूजन और मधुमेह के कारण न्‍यूरोपैथी जैसी स्थितियों के विरुद्ध भी उपयोग किया जाता है.

यौन स्‍वास्‍थ्‍य के लिए प्रभावी
खासतौर पर पुरुषों के यौन स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने के लिए स्वर्ण भस्म का उपयोग किया जाता रहा है. इससे पुरुषों में स्तंभन दोष और समय पूर्व स्खलन जैसी समस्यापओं दूर होती हैं. इसका उपभोग करने पर पुरुषों में शुक्राणुओं की कमी को दूर किया जा सकता है.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.