पिछले कुछ समय में युवा लोगों को हार्टअटैक, कार्डियेक अरेस्ट होने के कई मामले सामने आ रहे हैं. Also Read - शिवराज सिंह चौहान के ससुर का हुआ निधन, मुख्यमंत्री ने दी श्रद्धांजलि

Also Read - स्‍वस्‍थ होने के बाद गोल्‍फ खेलने पहुंचे कपिल देव, वीडियो संदेश जारी कर कही ये बात

लोग ये बात करते हैं कि पहले जहां 50 की उम्र के बाद लोगों को अटैक पड़ते थे, वहीं अब 35-40 की उम्र में भी ऐसा होना कॉमन बात हो गया है. आखिर इसकी वजह क्या है? Also Read - Heart Attack In Winters: ठंड के मौसम में ऐसे रखें अपने दिल का ख्याल, नहीं तो बढ़ सकता है हार्ट अटैक का खतरा

Tips: बच्चों को देते हैं पैकेटबंद दूध तो जानिए क्या हो सकता है उनके साथ? हो सकती है मौत?

नई दिल्ली के मनीपाल हॉस्पिटल्स के कार्डिएक साइंसेज एवं प्रमुख कार्डियो वैस्क्यूलर सर्जन प्रमुख डॉ. युगल के. मिश्रा कहते हैं कि जीवनशैली में बदलाव और तेजी से होते शहरीकरण ने भारत में कार्डियेक बीमारियों को बढ़ावा दिया है.

prone-to-heart-attack

डॉ. युगल के. मिश्रा ने कहा, ‘दुनिया भर में कार्डियोवैस्क्युलर बीमारियों के मामलों में बढ़ोतरी देखने को मिली है और इसके मामले लगातार बढ़ रहे हैं, खास तौर पर विकासशील देशों में. एक विकासशील देश के तौर पर भारत में यही स्थिति है, इसके साथ ही भारत में पिछले तीन दशकों में कोरोनरी आर्टरी की बीमारियां दोगुनी हो गई हैं, जो विकसित देशों के मुकाबले बिलकुल उलट है, जहां ऐसे मामले 50 फीसदी कम हुए हैं’.

Food Tips: स्वादिष्ट ही नहीं होता, कई बीमारियों से भी बचाता है राजमा-चावल, जानें क्यों खाएं?

उन्होंने कहा कि पिछले तीन दशकों में लोगों को कम उम्र में डायबिटीज मेलिटस, उच्च रक्तचाप समेत कई ऐसी बीमारियां तेजी से हो रही हैं, जो पहले कम हुआ करती थीं.

(एजेंसी से इनपुट)

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.