सर्दियों के मौसम में ठंड बढ़ते ही सर्दी, खांसी, बुखार जैसी बीमारियों में बढ़ोतरी हो जाती है. चिकित्सकों का मानना है कि इस मौसम में ठंड से बचने के लिए हम गर्म कपड़े तो पहन लेते हैं, मगर ठंड के असर से बचने के लिए शरीर का बाहर के साथ-साथ अंदर से भी गरम रहना जरूरी है. Also Read - दिल्ली के कई इलाकों में बारिश, खराब मौसम के चलते बदला 14 उड़ानों का मार्ग

Also Read - ठंडी हवाओं की गिरफ्त में Delhi-NCR, तापमान और गिरेगा, अगले हफ्ते बारिश का अनुमान

पटना के आयुर्वेदिक चिकित्सक डॉ. सुनील कुमार दुबे का मानना है कि इन बीमारियों से बचने के लिए कई घरेलू नुस्खे भी अपनाए जा सकते हैं. सुनील कुमार कहते हैं कि ठंड में लौंग, तुलसी, काली मिर्च और अदरक से बनी चाय खांसी, सर्दी, जुकाम के लिए ‘रामबाण’ का काम करती है. Also Read - कड़ाके की ठंड से दिल्ली सहित इन राज्यों में राहत, दिन के तापमान में 4 डिग्री की बढ़ोतरी

अगर करेंगे ये 5 काम, तो कभी नहीं होगी Heart Disease

हाल ही में बॉल्सब्रिज विश्वविद्यालय द्वारा पीएचडी की मानद उपाधि से सम्मानित दुबे ने कहा कि इन बीमारियों का मुख्य कारण वायरस का बढ़ता प्रसार होता है. उन्होंने कहा कि जुकाम एक संक्रामक बीमारी है जो बहुत जल्दी बढ़ती है. यह बीमारी बहती नाक, बुखार, सुखी या गीली खांसी अपने साथ लाती है, जो श्वसन तंत्र पर अचानक हमला करता है.

Winter Soups

उन्होंने कहा, ‘कॉमन कोल्ड में बच्चों और बुजुर्गों को विशेष ध्यान और सावधानी बरतनी चाहिए. सर्दियों में शहद का सेवन करने से शरीर को कई तरह की रोगों से दूर रखा जा सकता है. आयुर्वेद में शहद को अमृत माना गया है. सर्दी, जुकाम होने पर रात को सोने से पहले एक ग्लास गुनगुने दूध में एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से यह खत्म हो जाती है’.

उनका कहना है कि शहद शरीर के ‘इम्युन सिस्टम’ को दुरुस्त करता है. उन्होंने कहा कि सर्दी के दिनों में बाजरे की रोटी खाने का बहुत फायदा मिलता है. यह शरीर को तो गर्म रखती ही है, साथ में बाजरे की रोटी में प्रोटीन, विटामिन बी, कैल्शियम, फाइबर और एंटी ऑक्सीडेंट शरीर के लिए अच्छे होते हैं. ठंड से बचने के लिए बच्चों को भी बाजरे की रोटी खिलानी चाहिए.

उन्‍होंने कहा, ‘सर्दियों में मछली तथा सूप भी बेहद कारगर है. खाने में अदरक के प्रयोग से शरीर तो गर्म होता ही है, साथ में पाचन क्रिया भी अच्छी होती है’.

उन्होंने बताया कि आंवला डायबिटीज से परेशान लोगों के लिए किसी अमृत से कम नहीं है. आंवला को प्राचीन आयुर्वेदिक प्रणाली में कई तरह के रोगों के इलाज के लिए लगभग 5,000 साल से इस्तेमाल किया जा रहा है. आवंला की तुलना अमृत से की गई है. आंवला में विटामिन सी, विटामिन एबी, पोटेशियम, कैलशियम, मैग्नीशियम, आयरन, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर और डाययूरेटिक एसिड होते हैं. आंवला और मूंगफली सर्दियों में फायदेमंद होते हैं.

तिल के तेल से मालिश भी हमें ठंड से बचाने का काम करती है. उन्होंने बताया कि सर्दियों में संतरा खाने से बचना चाहिए. खजूर को गर्म दूध के साथ खाने पर भी सर्दी से राहत मिलती है.

(एजेंसी से इनपुट)

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.