ठंड का मौसम (winter season) भला किसे अच्‍छा नहीं लगता. इस मौसम में खूब सारे ऊनी कपड़े, चाय, तला भोजन लोग पसंद करते हैं. गुनगुनी धूप सेंकना का तो मजा ही अलग है. मगर यही वो मौसम भी है जब स्‍ट्रोक और हार्ट अटैक के मामलों में काफी बढ़त दर्ज की जाती है. हर साल ऐसे मामले बढ़ते हैं. डॉक्‍टर्स लोगों को सचेत रहने की हिदायत देते हैं. इस बार भी हाल ऐसा ही है.

क्‍या है खतरा
डॉक्‍टर्स कहते हैं कि ठंड के मौसम में उनके पास आने वाले ब्रेन स्ट्रोक और हार्ट अटैक के मरीजों की संख्‍या तीन गुना तक बढ़ जाती है. ऐसा बढ़ती ठंड की वजह से होता है.

Winter Tips: ठंड में खाएं ये 7 चीजें, कई गुना बढ़ जाएगी इम्‍युनिटी, नहीं होगा सर्दी-जुकाम

कैसे ठंड खतरा बन जाती है
दरअसल, सर्दियों में शरीर का रक्तचाप बढ़ता है जिसके कारण रक्त धमनियों में क्लॉटिंग होने से स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है. ब्रेन स्ट्रोक की प्रमुख वजह रक्तचाप है. रक्तचाप अधिक होने पर मस्तिष्क की धमनी या तो फट सकती है या उसमें रुकावट पैदा हो सकती है.

क्‍या करें
ठंड के मौसम में रक्त गाढ़ा हो जाता है. रक्त की पतली नलिकाएं संकरी हो जाती हैं. रक्त का दबाव बढ़ जाता है. अधिक ठंड पड़ने या ठंडे मौसम के अधिक समय तक रहने पर खासकर उच्च रक्तचाप से पीड़ित लोगों में स्थिति गंभीर हो जाती है. सर्दियों में लोग कम पानी पीते हैं जिसके कारण रक्त गाढ़ा हो जाता है. डॉक्‍टर सर्दियों में अधिक पानी और तरल पदार्थ पीने की सलाह देते हैं.

लाइफस्‍टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.