Chandra Grahan 2020: साल का पहला चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है. ये ग्रहण मांद्य चंद्र ग्रहण होगा.

ये ग्रहण भारत में पूर्ण रूप से दिखाई देगा. लेकिन ये ग्रहण वैसा नहीं है, जिसे आसानी से देखा जा सकता है. यानी ऐसा ग्रहण जिसमें चंद्रमा लाल होता दिखता है. इस ग्रहण में चंद्रमा घटता-बढ़ता नहीं दिखाई देगा, सिर्फ चंद्र के आगे धूल की एक परत-सी छा जाएगी.

WOLF MOON ECLIPSE 2020: चंद्र ग्रहण के बाद आएगी सुनामी? जानें ग्रहण से जुड़े हर सवाल का जवाब

मांद्य चंद्र ग्रहण क्‍या है
मांद्य का अर्थ है न्यूनतम यानी मंद होने की क्रिया. इसमें धूल जैसी परत दिखेगी पर चंद्रमा का कोई भाग ग्रहण ग्रस्त होता नहीं दिखेगा. ग्रहण में चंद्रमा का करीब 90 प्रतिशत भाग धूसर छाया में होगा. धूसर छाया यानी मटमैली सी छाया. हल्की सी धूल-धूल वाली छाया.

कब होता है मांद्य चंद्र ग्रहण
मांद्य चंद्र ग्रहण में चंद्रमा पृथ्वी और सूर्य एक ऐसी लाइन में रहते हैं, जहां से पृथ्वी की हल्की सी छाया चंद्रमा पर पड़ती है. ये तीनों ग्रह एक सीधी लाइन में नहीं होते.

WOLF MOON ECLIPSE 2020: क्‍यों खास है साल का पहला चंद्र ग्रहण, ऐसे देख सकेंगे LIVE

चंद्र ग्रहण समय
चंद्र ग्रहण 10 जनवरी रात 10:37 बजे शुरू होगा और सुबह 2:42 बजे तक चलेगा. ग्रहण 4 घंटे 5 मिनट का होगा. ये चंद्र ग्रहण भारत में देखा जा सकेगा. साथ ही यूरोप, एशिया अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया महाद्वीपों के कई इलाकों में देखा जा सकेगा.

लाइफस्‍टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.