मुंबई: मशहूर फैशन डिजाइनर अनीता डोंगरे का मानना है कि किसी महिला को अपनी क्षमता साबित करने के लिए पुरुषों का परिधान पहनने की जरूरत नहीं है. महिलाओं के पारंपरिक परिधान तैयार करने के लिए मशहूर मुंबई की इस डिजाइनर का कहना है कि महिलाएं एक ही वक्त में खूबसूरत और शक्तिशाली दोनों लग सकती हैं क्योंकि ताकत अंदरूनी चीज है.

अनीता ने ‘पीटीआई-भाषा’ से बातचीत में कहा कि मैं जो भी बनाती हूं उसका स्त्रियोचित, आरामदेह और श्रेष्ठ होना जरूरी है. इसलिए मेरे लिए ऐसी धारणा कि किसी मजबूत महिला को पुरूषों का परिधान पहनना जरूरी है, एकदम गलत है. उन्हें महिलाओं के परिधान पहनने चाहिए. हम यहां पुरुषों से प्रतिस्पर्धा के लिए नहीं है. हमारी ताकत हमारे भीतर है.

घरेलू काम को लेकर बदल रही पुरुषों की सोच, 27 फीसदी लोगों ने मानी यह बात

शक्तिशाली दिखाने वाली वेशभूषा की पूरी अवधारणा पक्षपातपूर्ण
महिलाओं के लिए पहली बार किफायती ऑफिस वियर ‘एएडंडी’ ब्रांड पेश करने वाली डिजाइनर का कहना है कि उन्हें शक्तिशाली दिखाने वाली वेशभूषा की पूरी अवधारणा पक्षपातपूर्ण और पितृसत्तात्मक लगती है. बता दें कि अनीता लैक्मे फैशन वीक समर/रिजॉट 2019 से इतर बातचीत कर रहीं थीं. यहां इन्होंने अपना नया कलेक्शन ‘समर रेविएरा’ पेश किया.