Women’s Day 2021: कोरोना काल में अपनी सेवाएं देने के लिए लोगों ने विषम हालात का सामना किया है. ऐसी ही महिला हैं नाजिरा खान. नाजिरा मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता हैं. Also Read - IPL 2021: दर्शकों के बिना आईपीएल का आयोजन कराना चाहती हैं फ्रेंचाइजी; Punjab Kings के मालिक ने दिया बड़ा बयान

कोरोना काल में परिवार के विरोध के बावजूद लोगों की मदद के लिए आगे आने पर राष्ट्रीय महिला आयोग नाजिरा को सम्मानित करने जा रहा है. राष्ट्रीय महिला आयोग के 29वें स्थापना दिवस 31 जनवरी को नई दिल्ली में केंद्रीय महिला-बाल विकास मंत्री स्मृति जुबिन इरानी द्वारा नाजिरा खान को ‘कोविड महिला वॉरियर’ सम्मान से नवाजा जाएगा. Also Read - Covid 19 Vaccination phase 2.0: 29 लाख लोगों ने Co-Win पोर्टल पर कराया रजिस्ट्रेशन, इतने लोगों को लगी वैक्सीन

नाजिरा खान श्योपुर जिले के हीरागांव की आगनवाडी कार्यकर्ता हैं. स्नातक, बीएसडब्ल्यू और पीजीडीसीए तक शिक्षित नाजिरा ने कोरोना काल में ड्यूटी पूरी करने के लिए परिवार का विरोध झेला. Also Read - vaccination Registration/Arogya Setu: अब आरोग्य सेतु से करें कोरोना वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन, जानें क्या है पूरी प्रक्रिया

लॉकडाउन की घोषणा के समय नाजिरा स्वयं डेंगू का इलाज करा रही थीं, लेकिन कोरोना संक्रमण के दौरान कई प्रवासी परिवारों को सरकार की गाईडलाइन के अनुसार क्वारंटीन करवाकर उचित इलाज और सहायता पहुंचाई.

नाजिरा बताती है कि करीब पांच हजार की आबादी वाले उनके गांव में एक हजार से ज्यादा लोग रोजी-रोटी की तलाश में गांव से दूर काम करते थे. लॉकडाउन की घोषणा होते ही प्रवास पर गए सभी लोग गांव वापस आने लगे.

उन्होंने बताया कि महानगरों से गांव लौट रहे ग्रामीणों से संक्रमण का खतरा ज्यादा था. वे जानती थीं कि यदि बाहर से लौटे लोगों को क्वारंटीन नहीं किया और उनकी समुचित चिकित्सीय जांच नहीं कराई तो कोरोना संक्रमण पूरे गांव में फैल सकता है.

नाजिरा ने ग्राम प्रधान और सरपंच की मदद से भाग-दौड़ कर बाहर से आये सभी लोगों को क्वारंटीन कराना शुरू कर दिया. उनका बाहर जाना, लोगों से मिलना ससुराल के बुजुर्गों को नागवारा लगा.

उन्हें नौकरी से त्यागपत्र तक देने पर जोर दिया गया. नाजिरा के पति ने उनका साथ दिया और परिवार के लोगों को समझाया, संकट की इस घड़ी में गांव के लोगों की मदद करने की इजाजत नाजिरा को दिलाई.

लोगों को सुरक्षित रखने के फैसले और नाजिरा की समझदारी से आज पूरा गांव कोरोना से मुक्त है. नाजिरा आज न केवल लोगों को कोरोना सुरक्षा के उपाय बता रही हैं, बल्कि आंगनवाड़ी से जुड़े सभी परिवारों को पोषण आहार टी.एच.आर और अन्य सेवाएं सुचारू रूप से दे रही हैं.
(एजेंसी से इनपुट)