नई दिल्ली: कोरोना महामारी के कारण लोग पिछले कई महीनों से घरों में बंद हैं. ऐसे में घर पर रहते हुए वह कोरोना से खुद का बचाव तो कर रहे हैं लेकिन उनकी  लाइफस्टाइल में इसका काफी बुरा प्रभाव पड़ रहा है. घर पर बैठे रहने के कारण लोगों का वजन तो बढ़ ही रहा है इसके साथ ही लोगों में चिढ़चिढ़ापन भी देखने को मिल रहा है. वहीं, अगर महिलाओं की बात की जाए तो उन्हें ऑफिस के काम के साथ -साथ घर का भी सभी काम देखना पड़ रहा है. पहले लोग हर दिन जिम में जाकर अपना पसीना बहाते थे लेकिन अभी फिलहाल ये सभी चीजें असभंव ही हैं. ऐसे में खुद को तंदरुस्त रखने का एकमात्र उपाय है कि आप हर दिन कम से कम 30 मिनट के लिए सैर पर जाएं. एक शोध में इस बात का खुलासा हुआ है के अगर आप लगातार हल्का व्यायाम करते हैं और प्रतिदिन क़रीब तीस मिनट की पैदल सैर करते हैं तो आपको इसके बहुत ही शानदार परिणाम देखने को मिलेंगे. सैर केवल आपकी फिजिकल हेल्थ के लिए ही नहीं बल्कि आपकी मेंटल हेल्थ के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकती है. आइए जानते हैं सैर से होने वाले फायदों के बारे में- Also Read - सुबह जल्‍दी उठने से नहीं होती बीमारियां, अब ये बात साबित हो चुकी है!

डिप्रेशन- शोध के अनुसार जो लोग हर सप्ताह 6-9 मील चलते हैं उनमें बढ़ती उम्र के साथ याददाश्त कम होने की डिमेंशिया जैसी समस्या की आशंका कम हो जाती है. Also Read - सुबह जल्दी उठने का ये है सबसे बड़ा फायदा, क्‍या इसे जानते हैं आप?

दर्द में राहत- हड्डियों और मांसपेशियों में दर्द होने पर भी पैदल चलना एक कारगर उपाय है. इससे दर्द में राहत मिलती है. शरीर की कार्यप्रणाली दुरुस्त होती है और गतिशीलता आती है. Also Read - मॉर्निंग वॉक पर निकलने वालों की उड़ाने थे चेन, दिल्‍ली पुलिस ने 'प्‍लान 146' बनाकर गैंग को पकड़ा

तनाव से राहत- सुबह या शाम की सैर एंडोरफिंस नामक न्यूरोपेप्टाइड्स को सक्रिय करती है. इससे शरीर को आराम मिलता है, बेचैनी और चिड़चिड़ेपन जैसे लक्षणों में भी सुधार होता है.

मधुमेह की संभावना काम हो जाती है – यह एक आम बात है कि पैदल चलने से शरीर इंसुलिन का इस्तेमाल सही तरीके से कर पाता है. अगर आपको मधुमेह होने की संभावना है या आप उससे ग्रसित हैं तो हर खाने के बाद कुछ मिनट पैदल चलना आपके स्वास्थ के लिए लाभदायक होगा.

बढ़ते वज़न पर लगाम लगाता है पैदल चलना – यह एक आम बात है कि जो लोग प्रतिदिन करीब तीस मिनट पैदल चलते हैं उनका मेटाबोलिज़्म मज़बूत होता है और वो ज़्यादा कैलोरी बर्न कर पाते हैं. पैदल चलने को एक आसान ह्रदय व्यायाम माना जाता है जिसकी वजह से वज़न को संतुलित रखने में मदद मिलती है.