नई दिल्ली: हर वर्ष 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है. इस बार 47वां विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जा रहा है. इस दिन को मनाने का मुख्य कारण है व्यक्ति को पर्यावरण के प्रति सचेत करने का. हम इंसानों और पर्यावरण के बीच बहुत गहरा संबंध है. प्रकृति के बिना हमारा जीवन संभव नहीं है. हम अक्सर अपने पर्यावरण को बचाने की बाते करते रहते हैं. इस बार विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून, 2020 को मनाया रहा है, जिसका थीम जैव विव‍िधता रखा गया है. ताकी लोगों को पर्यावरण की अहमियत, इंसानों व पर्यावरण के बीच के गहरे ताल्‍लुकात को समझाते हुए प्रकृति के संरक्षण के लिए प्रेरित किया जा सके. Also Read - कोविड-19 की दवा विकसित करने के लिए 'ड्रग डिस्कवरी हैकाथन' शुरू, देश में पहली बार हो रही ऐसी पहल

गौरतलब है कि दुनिया में कोरोना वायरस महामारी के कारण देशों ने लॉक़ाउन लगा रखा है जिसके कारण सड़कों पर यातायात बंद ह. वैश्विक आंकड़े बता रहे हैं कि पिछले 60 वर्षों में किए गए तमाम प्रयासों और जलवायु परिवर्तन के असंख्य वैश्विक समझौतों के बावजूद पर्यावरणीय स्थिति में वो सुधार नहीं हो पाया था जो पिछले 60 दिनों में वैश्विक लॉकडाउन के चलते हुआ है. इस साल लॉकडाउन के चलते आपको पर्यावरण दिवस घर पर ही मनाना पड़ेगा. आप घर पर रहकर भी पर्यावरण दिवस मना सकते हैं. और पर्यावरण की रक्षा भी कर सकते हैं. आइए जानते हैं कैसे- Also Read - राजस्थान में कोरोना: 421 मौतें, संक्रमितों की संख्या 18 हज़ार पार, जानें अपने इलाके का हाल

घर पर रहकर ऐसे मनाएं विश्व पर्यावरण दिवस (World Environment Day 2020)
– इस पर्यावरण दिवस पर आप अपने घर में पौधे या आसपास फिर पेड़ लगाएं. इससे आपके घर को पेड़ की छाया, ताज़ा हवा भी मिलेगी और पर्यावरण की भी मदद होगी.
– अपने घर के सामान को रीसाइकल करने की ठानें. अपने परिवार के सभी लोगों को इसका हिस्सा बनाएं और सोचे कि घर के बचे हुए ज़्यादा से ज़्यादा सामान को कैसे रीसाइकल किया जा सकता है.
– पॉलीथीन का उपयोग ना करें.सब्जी व सामान के लिए कपड़े की थैलियां रखें.
-अगर आपको इधर उधर थूकने की आदत है तो सुधारें.
–नई पीढ़ी को प्रकृति, पर्यावरण, पानी व पेड़-पौधों का महत्व समझाएं.
–बिजली के बिल में कटौती करने वाले उपाय सोचो.
-पुराने बल्ब पर जमी धूल पोंछने पर कमरे में दो के बजाय एक ही बल्ब से काम चल जाएगा.
-गर्म पानी से नहाने की आदत बदलोगे तो भी चल सकता है.
-किसी भी पुरानी चीज को फेंकने के बजाय उसका दूसरा इस्तेमाल जरूर सोचें.
-फ्रिज के पानी के बजाय मटके का ठंडा पानी ज्यादा बेहतर है. Also Read - यूपी में कोरोना का कहर, 24 घंटे में 21 और लोगों की मौत, संक्रमितों की संख्या 23 हज़ार पार