नई दिल्ली:  हर साल 29 सितंबर के दिन विश्व हृदय दिवस मनाया जाता है. इस दिन को मनाए जाने का खास उद्देश्य लोगों को हृदयरोग के बारे में जागरूक करना है. आज के समय में हृदयरोग के मरीजों की संख्या दुनियाभर में लगातार बढ़ती जा रही है. वर्तमान लाइफ स्टाइल, खान-पान और तनाव की वजह से हार्ट अटैक के मामले बढ़ते जा रहे हैं और आजकल 25-30 साल के युवा भी हार्ट अटैक के शिकार होने लगे हैं. ऐस में जरूरी है कि हम अपने दिल का खास ख्याल रखें. ऐसे में आज हम आपको कुछ आसान तरीके बताने जा रहे हैं जिससे आप अपने दिल को स्वस्थ रख सकते हैं.Also Read - Health Benefits Of Rajma: डायबिटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद है राजमा, पढें र‍िपोर्ट

पोषक भोजन – अपने भोजन में फलों, सलाद, हरी सब्जियों, साबुत अनाज को प्रमुखता से शामिल करें. तेल और घी का सेवन बहुत कम करें. प्रतिदिन 30 ग्राम लहसुन खाएं, क्योंकि यह शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है और रक्त संचरण को ठीक करता है. मांसाहार, तली हुई चीजें, फास्ट फूड, वसा युक्त दूध और दुग्ध उत्पाद और चीनी का अधिक मात्रा में सेवन हृदय रोगों की आशंका बढ़ा देते हैं. Also Read - Health Tips: Covid-19 से लड़ने के लिए Immunity बढ़ाना है बेहद ज़रूरी, इन 3 Step Mantra से करें अपनी इम्युनिटी बूस्ट

व्यायाम – व्यायाम आपको दिल की बीमारियों के साथ कई तरह के कैंसर से भी बचाता है. दिन में कम से कम 30 मिनट हल्का-फुल्का व्यायाम जरूर करें. कम से कम 30 मिनट टहलें जरूर. Also Read - Tips: 40 की उम्र के बाद भी रहेंगे एकदम फिट, बस लाइफस्टाइल में कर लें ये बदलाव

एक्‍टिव रहें- ज्यादा से ज्यादा फिजिकली एक्टिव रहें. अगर आप पूरे दिन ऑफिस में बैठ कर काम करते हैं, तो खुद को फिजिकली एक्टिव रखने के लिए सुबह या शाम में वॉक पर जाएं या साइकलिंग करें.

भरपूर नींद लें- कम सोने से चिंता, तनाव और स्लिपिंग डिसऑर्डर जैसी कई समस्याएं हो जाती है. इससे दिल की सेहत पर बहुत बुरा असर पड़ता है.

धूम्रपान को कहे ना- धूम्रपान करने वाले व्यक्तियों में हृदय रोगों की आशंका कई गुना बढ़ जाती है. धूम्रपान धमनियों में रक्त के प्रवाह को बाधित करता है. यह अच्छे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी कम कर देता है और रक्त कणिकाओं को चिपकने वाला बना देता है, जिससे धमनियों के अंदर रक्त का थक्का बनने की आशंका बढ़ जाती है.

सही तेल का चुनाव- खाना पकाने के लिए सरसों, जैतून या मूंगफली का तेल ठीक रहता है. सोयाबीन का तेल कोलेस्ट्रॉल बढ़ाने वाला होता है. तलने के बाद उस तेल को दोबारा इस्तेमाल न करें, क्योंकि इसमें ट्रांस फैट की मात्रा घातक स्तर तक बढ़ जाती है.