नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण में सात राज्यों में 51 सीटों के लिए सोमवार सुबह सात बजे मतदान शुरू हो गया. इस चरण में राजनाथ सिंह, सोनिया गांधी, राहुल गांधी और स्मृति ईरानी सहित 674 उम्मीदवारों के राजनीतिक भविष्य का फैसला करीब नौ करोड़ मतदाता करेंगे. सत्तारूढ़ भाजपा और सहयोगियों दलों के लिए काफी कुछ दांव पर है, क्योंकि 2014 के चुनावों में उन्होंने 51 में से 40 सीटों पर जीत दर्ज की थी. दो सीटों पर कांग्रेस ने जीत हासिल की थी, जबकि शेष पर अन्य विपक्षी दलों ने जीत हासिल की. लोकसभा की 542 सीटों के लिए सात चरणों में 11 अप्रैल से 19 मई के बीच चुनाव हो रहे हैं. मतगणना 23 अप्रैल को होगी. आइए पांचवें चरण के चुनाव से जुड़ी 10 अहम बातों को जानें… Also Read - Madhya Pradesh: 'Tandav' के खिलाफ दो शहरों में FIR, बीजेपी नेता ने उद्धव ठाकरे को भेजा पत्र

1- पांचवें चरण के चुनाव के तहत उत्तरप्रदेश में 14 सीटों, राजस्थान में 12 सीटों, पश्चिम बंगाल और मध्यप्रदेश में सात-सात सीटों पर मतदान हो रहा है. जबकि बिहार में पांच और झारखंड में चार सीटों के लिए मतदान जारी है. जम्मू-कश्मीर के लद्दाख सीट और अनंतनाग सीट के लिए पुलवामा और शोपियां जिलों में मतदान चल रहा है. Also Read - रेप के आरोपों का सामना कर रहे Dhananjay Munde के खिलाफ कार्रवाई को लेकर NCP प्रमुख शरद पवार ने कही यह बात..

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com Also Read - Rajasthan Latest News: सचिन पायलट समर्थक MLA गजेंद्र सिंह शक्तावत का निधन, CM गहलोत ने जताया शोक

2- इस दौर के मतदान के लिए चुनाव आयोग ने 94 हजार मतदान केंद्रों का निर्माण किया है. सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. पांचवें और सबसे छोटे चरण में 8.75 करोड़ मतदाता 674 उम्मीदवारों का राजनीतिक भविष्य तय करेंगे. इस चरण के साथ ही 424 सीटों पर चुनाव खत्म हो जाएंगे और शेष 118 सीटों पर 12 मई और 19 मई को चुनाव होंगे.

3- लोकसभा चुनाव के इस चरण में उत्तरप्रदेश में 14 सीटों पर बड़े राजनीतिक हस्तियों के बीच चुनावी टक्कर है. इनमें केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह और स्मृति ईरानी, संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी शामिल हैं. भाजपा ने 2014 में इनमें से 12 सीटों पर जीत हासिल की थी और कांग्रेस ने रायबरेली और अमेठी सीटों पर कब्जा बरकरार रखा था. पूरे राज्य में 80 सीटों में से केवल इन्हीं दो सीटों पर कांग्रेस को फतह मिली थी.

4- अमेठी और रायबरेली में सपा-बसपा गठबंधन ने अपने उम्मीदवार नहीं उतारे हैं और इन दोनों सीटों को कांग्रेस के लिए छोड़ रखा है. केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह लखनऊ से दोबारा मैदान में हैं जबकि स्मृति ईरानी अमेठी में राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं.

5- राजस्थान में 12 लोकसभा सीटों पर जिन 134 उम्मीदवारों की राजनीतिक किस्मत तय होनी है, उनमें दो पूर्व ओलंपिक खिलाड़ी, एक पूर्व आईएएस और एक पूर्व आईपीएस अधिकारी शामिल हैं. इस चरण के बाद राजस्थान में चुनाव खत्म हो जाएंगे. राजस्थान में राज्यवर्द्धन राठौर, कृष्णा पुनिया, अर्जुन राम मेघवाल प्रमुख उम्मीदवार हैं.

लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण में राजनाथ सिंह, राहुल गांधी समेत इन दिग्गजों पर रहेगी नजर

लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण में राजनाथ सिंह, राहुल गांधी समेत इन दिग्गजों पर रहेगी नजर

6- पश्चिम बंगाल में सभी सात सीटों पर तृणमूल कांग्रेस, भाजपा, कांग्रेस और माकपा के बीच चतुष्कोणीय मुकाबला है. 2014 के चुनावों में तृणमूल कांग्रेस ने सभी सात सीटों पर जीत दर्ज की थी.

7- बिहार में पांच सीटों में से हाजीपुर जहां लोक जनशक्ति पार्टी का गढ़ है. वहीं सारण राजद का गढ़ माना जाता है. तीन अन्य संसदीय क्षेत्र हैं मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी और मधुबनी. बिहार में हाजीपुर सीट की चुनावी लड़ाई लोजपा प्रमुख रामविलास पासवान के लिए प्रतिष्ठा की जंग है, क्योंकि इस बार उन्होंने अपने भाई पशुपति कुमार पारस को यहां से उतारा है.

8- झारखंड में चार सीटों हजारीबाग, कोडरमा, रांची और खूंटी में चुनाव होने वाले हैं. केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा हजारीबाग से फिर से चुनाव मैदान में हैं. इसके अलावा खूंटी और रांची सीट, जिस पर अभी भाजपा का दबदबा है, वहां के चुनावों पर भी विशेषज्ञों की नजरें टिकी हुई हैं.

9- मध्यप्रदेश में सात सीटों टीकमगढ़, दामोह, खजुराहो, सतना, रीवा, होशंगाबाद और बेतुल में चुनाव होंगे जहां 2014 में भाजपा ने जीत दर्ज की थी. हालिया विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 15 साल बाद सत्ता में वापसी की है. इसके मद्देनजर प्रदेश में कांग्रेस दोबारा अपनी जड़ें जमाने की कोशिश में लगी है.

10- लद्दाख में चार उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं. भाजपा से जहां सेरिंग नामग्याल मैदान में हैं वहीं कांग्रेस से रिगजिन स्पालबार हैं और दो उम्मीदवार निर्दलीय हैं. जम्मू-कश्मीर में पिछले 5 वर्षों में बने हालात के मद्देनजर सियासी जानकारों की नजरें इस बार भाजपा के प्रदर्शन पर टिकी हुई हैं.

(इनपुट – एजेंसी)