पटना: लोकसभा चुनाव 2019 के दूसरे चरण के तहत बिहार की पांच लोकसभा सीटों किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, भागलपुर और बांका में कड़ी सुरक्षा के बीच बृहस्पतिवार सुबह सात बजे मतदान के शुरू हो गया और सुबह आठ बजे तक करीब 5.3 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया.

 

अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी संजय कुमार सिंह ने बताया कि किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, भागलपुर और बांका में सुबह आठ बजे तक क्रमश: 3.5 प्रतिशत, 4.0 प्रतिशत, 4.0 प्रतिशत, 7.0 प्रतिशत और 4.0 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. उन्होंने बताया कि इन संसदीय क्षेत्रों में निष्पक्ष और शांतिपूर्ण ढंग से मतदान संपन्न कराने के लिए पुलिस बल के अलावा पूर्णिया में हेलीकॉप्टर तैनात रहेंगे एवं पटना में एयर एंबुलैंस भी तैनात रहेगी. इसके अलावा 154 जगहों पर वेबकास्टिंग की व्यवस्था की गयी है. संजय ने बताया कि बांका संसदीय क्षेत्र के दो विधानसभा क्षेत्रों कटोरिया और बेलहर को छोड़कर पांचों संसदीय क्षेत्रो में मतदान का समय सुबह सात बजे से अपराह्न छह बजे तक निर्धारित किया गया है और इन लोकसभा क्षेत्रों में कुल 8644 मतदान केंद्र बनाए गए हैं. नक्सल प्रभावित कटोरिया और बेलहर विधानसभा क्षेत्रों में मतदान का समय सुबह सात बजे से अपराह्न चार बजे तक निर्धारित किया गया है.

पांचों संसदीय क्षेत्रों में कुल 85 लाख 52 हजार 274 मतदाता
संजय ने बताया कि सुचारू रूप से मतदान संपन्न कराने के लिए इन संसदीय क्षेत्रों के लिए 8,644 कंट्रोल यूनिट, 12218 बैलट यूनिट और 8644 वीपीपैट की व्यवस्था की गयी है. उन्होंने बताया इन पांचों संसदीय क्षेत्रों में मतदाताओं की कुल संख्या 85 लाख 52 हजार 274 है. इनमें पुरुष मतदाताओं की संख्या 44 लाख 92 हजार 599 है और महिला मतदाताओं की संख्या 40 लाख 59 हजार 375 है. वहीं थर्ड जेंडर की संख्या 300 है. किशनगंज संसदीय क्षेत्र में कुल 1626 मतदान केंद्रों पर 16 लाख 52 हजार 940 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे. इनमें 8 लाख 55 हजार 667 पुरुष, 7 लाख 97 हजार, 215 महिलाएं और 58 थर्ड जेंडर मतदाता शामिल हैं.

सुपरस्‍टार रजनीकांत ने चेन्नई सेंट्रल में डाला वोट, बेटी श्रुति संग मतदान करने पहुंचे कमल हासन

लोकसभावार यह है वोटर संख्‍या
कटिहार संसदीय क्षेत्र के 1667 मतदान केंद्रों पर 16 लाख 45 हजार 713 मतदाता वोट डालेंगे. इनमें 8 लाख 71 हजार 731 पुरुष, 7 लाख 73 हजार 884 महिलाएं और 98 थर्ड जेंडर मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे. वहीं पूर्णिया संसदीय क्षेत्र में 1758 मतदान केंद्रों पर 17 लाख 53 हजार 701 मतदाता वोट डालेंगे. इनमें 9 लाख 10 हजार एक पुरुष, 8 लाख 43 हजार 648 महिलाएं और 52 थर्ड जेंडर मतदाता शामिल हैं. भागलपुर संसदीय क्षेत्र के 18 लाख 11 हजार 980 मतदाता 1777 मतदान केंद्रों पर वोट डालेंगे. इनमें 9 लाख 58 हजार 871 पुरुष, 8 लाख 53 हजार 37 महिलाएं तथा 72 थर्ड जेंडर मतदाता हैं. बांका संसदीय क्षेत्र के 1816 मतदान केंद्रों पर 16 लाख 87 हज़ार 940 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे. इनमें 8 लाख 96 हजार 329 पुरुष, सात लाख 91 हज़ार 591 महिलाएं और 20 थर्ड जेंडेर मतदाता शामिल हैं.

देवगौड़ा, हेमामालिनी, डी राजा, राजबब्बर समेत अन्य प्रमुख नेताओं की किस्मत ईवीएम में होगी कैद

68 उम्मीदवार चुनावी मैदान
संजय ने बताया कि इन संसदीय क्षेत्रों में कुल 68 उम्मीदवार चुनावी मैदान में डटे हैं जिनमें तीन महिला प्रत्याशी भी शामिल हैं . सबसे अधिक बांका में 20 और भागलपुर और कटिहार में नौ—नौ उम्मीदवार हैं . भाजपा 2014 में इन सभी पांचों सीटों पर असफल रही थी. राजग में सीटों के बंटवारे के तहत मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जदयू के खाते में ये सीटें गयी है जिसके उम्मीदवार इन सीटों से राजग के प्रत्याशी के तौर पर अपना भाग्य आजमा रहे हैं . जदयू ने पूर्णिया से अपने निवर्तमान सांसद संतोष कुमार कुशवाहा को, भागलपुर से अजय मंडल को, बांका से गिरधारी यादव को, कटिहार से दुलाल चंद्र गोस्वामी को और किशनगंज से महमूद अशरफ को अपना उम्मीदवार बनाया है.

प्रधानमंत्री मोदी आज गुजरात, कर्नाटक व केरल में चुनावी जनसभा को करेंगे संबोधित

इन नेताओं की किस्‍मत ईवीएम में होगी कैद
विपक्षी महागठबंधन में शामिल राजद ने भागलपुर से अपने निवर्तमान सांसद शैलेश कुमार उर्फ बुलो मंडल और बांका से निवर्तमान सांसद जयप्रकाश नारायण यादव को अपना उम्मीदवार बनाया है जबकि किशनगंज से कांग्रेस ने मोहम्मद जावेद को अपना उम्मीदवार बनाया है तथा उदय सिंह कांग्रेस के उम्मीदवार हैं. उन्होंने 2009 में भाजपा के टिकट पर पूर्णिया की सीट जीती थी लेकिन वह 2014 के लोकसभा चुनाव में हार गए थे. किशनगंज में इस बार असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम ने अख्तरूल इमान को अपना उम्मीदवार बनाया है. पूर्व केंद्रीय मंत्री दिवंगत दिग्विजय सिंह की पत्नी पुतुल देवी निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनावी मैदान में डटी हुई हैं.